भागलपुर,( कुलसूम फात्मा )  आखिरकार लंबे समय के बाद शहर का पहला वेंडिंग जोन बनकर तैयार हो ही गया शनिवार यानी के आज के दिन फुटकर विक्रेताओं के मध्य दुकानें आवंटित होंगी। इससे दंगा पीड़ित फुटकर विक्रेता संघ के मध्य काफी खुशी का माहौल है क्योंकि यह नाथनगर के कर्णगढ़ में शहर का पहला वेंडिंग जोन होगा।

 

 

शुक्रवार के दिन नगर आयुक्त व प्रफुल्ल चंद यादव ने वेंडिंग जोन का निरीक्षण किया निरीक्षण में 152 दुकानों का भी जायजा लिया इसमें दुकान नंबर भी अंकित किए गए हैं। पहली प्राथमिकता पूर्व के 106 वेंडरों को दे दी जाएगी, जिसमें 74 वेंडरों को कार्यालय के जरिए गठित टीम के भौतिक सत्यापन में सही पाया गया है। इसमें चार वेंडरों की मृत्यु भी हो चुकी है।

 

बाकी बचे 28 आवेदनों में 19 वेंडरों के आवेदन की जांच हो रही है। फुटकर विक्रेताओं को रोड पर या धूप में दुकान नहीं लगानी पड़ेगी बल्कि शेड में बैठकर उनको सामग्री बेचने का मौका मिलेगा। बता दें इसका उद्घाटन विधानसभा चुनाव के पहले ही कर दिया गया था। बिजली पोल के वजह से 1 शेड का काम रुका हुआ था, परंतु पोल हटाने का विचार-विमर्श हो गया है। केंद्र तथा राज्य सरकार की दीनदयाल अंत्योदय योजना राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन की योजना से बनाया गया है।

 

 

आइए जानते हैं वेंडिंग जोन का क्या है मामला

असल में 89 दंगा में पीड़ित दुकानदारों ने कर्णगढ़ में पीडब्ल्यूडी की संपत्ति पर वर्ष 1991 में कब्जा कर लिया था। इस बीच 2011 में न्यायालय ने 106 दुकानदारों को अतिक्रमण हटाने का निर्देश भी दिया दंगा पीड़ित व फुटकर दुकानदार संघ ने स्थानीय कोशिश से पीडब्ल्यूडी की जमीन को नगर निगम में हस्तांतरित कराया और 6 वर्षों से वेंडिंग जोन निर्माण का प्रोसीजर चल रहा था। इस दौरान कई बार विवाद भी उत्पन्न हुआ 4 वर्षों में 2 पूर्व नगर विकास मंत्री ने दुकानदारो के मध्य सभा करके सूबे का पहला वेंडिंग जोन बनाने की घोषणा की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.