बिहार,( कुलसूम फात्मा ) कोरोना महामारी के कारण ट्रेनों के संचालन पर पाबंदी लगा दी गई थी और धीमे-धीमे जब स्थिति में सुधार आया तो जो ट्रेनें सामान्य रूप से चलती थी, उनको स्पेशल ट्रेनों के रूप में चलाया जाने लगा जिससे आम लोगों की जेब ढीली पड़ने लगी अधिकतर लोग स्पेशल ट्रेनों का किराया बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं। वर्तमान समय में बहुत सारी ट्रेनों का परिचालन प्रारंभ भी नहीं हो सका है जो ट्रेनें चल रही हैं। उनका किराया सामान्य से काफी अधिक है परंतु वर्तमान में यह मुश्किल जल्द ही दूर होने वाली है क्योंकि रेलवे प्रशासन ट्रेनों को सामान्य परिचालन प्रारंभ कर दिया जाए इसके लिए तेजी के साथ कार्य में लगा हुआ है। इसके साथ ही सभी एक्सेस में मेमू तथा अन्य लोकल पैसेंजर ट्रेनों को भी पुनः पटरी पर लाने के लिए मार्च तक की तैयारी है।

 

 

 

215 एक्सप्रेस ट्रेनों का हुआ संचालन।

पूर्व मध्य रेलवे क्षेत्र से फिलहाल 215 मेल एक्सप्रेस ट्रेनों का संचालन हो चुका है और 39 यात्री गाड़ियों का भी संचालन प्रारंभ किया गया है। इसके बाद भी यात्रियों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है पूर्व मध्य रेल की तरफ से रेलवे बोर्ड से नियमित सवारी गाड़ियों के संचालन की मंजूरी मांगी गई है। जल्द ही इसकी मंजूरी मिल जाएगी। उम्मीद जताई जा रही है और उसके बाद मार्च के मध्य तक एक्सप्रेस के साथ-साथ सवारी गाड़ियों का भी संचालन प्रारंभ कर दिया जाएगा।

 

 

 

पटना मेन लाइन जुडगी़े सीधे नेपाल से।

बहुत जल्द रेलवे की तरफ से पटना से सीतामढ़ी होते हुए जनकपुर तक सीधी रेल सेवा प्रारंभ की जाएगी और जनकपुर तक तकरीबन रेल लाइन का कंस्ट्रक्शन कार्य भी पूरा कर लिया गया है। निर्माण कार्य पूरा होगा तब तक ट्रेनों का संचालन प्रारंभ कर दिया जाएगा जिससे पटना मेन लाइन सीधे नेपाल से जुड़ेगी। रेलवे बोर्ड से रक्सौल से काठमांडू और रेलखंड के सर्वे के लिए भी बजट में खास व्यवस्था की गई है। पटना के लोगों के लिए सबसे बड़ी दिक्कत मीठापुर के आरओबी के कंस्ट्रक्शन कार्य को पूर्ण नहीं किए जाने से हो रही थी, परंतु अब रेलवे बोर्ड से इसकी मंजूरी मिल गई है और बहुत जल्द परमिशन भी मिल जाएगी और तुरंत कार्य शुरू कर दिया जाएगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.