गोरखपुर,( कुलसूम फात्मा ) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल के वित्तीय बजट के संबंध में भारत को तेज गति से विकास की दिशा में ले जाने के लिए स्पष्ट रूप से रोड मैप सामने रखा और बजट में भारत के विकास में प्राइवेट सेक्टर को मजबूती से साझेदारी पर भी ध्यान केंद्रित करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि public-private भागीदारी के मौके तथा लक्ष्यों को स्पष्ट रूप से सामने रखा गया है।

 

प्रधानमंत्री ने कहा सरकार स्वयं व्यापार चलाये या फिर उसकी मालिक बनी रहे। आज के समय में यह जरूरी नहीं है ना यह संभव हो सकता है
उन्होंने कहा  सरकार का व्यापार में रहने का कोई भी कार्य नहीं है। सरकार का ध्यान लोगों के कल्याण तथा विकास से जुड़ी प्रोजेक्ट में ही रहना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वेबीनार में निवेश तथा सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग के लिए बजट में घोषणाओं पर बोलते हुए नजर आए।

 

कहां कि जब सरकार व्यापार करने लगती है तो बहुत सारे नुकसान होने लगते हैं‌ और निर्णय लेने में सरकार के सामने बंधन भी होते हैं। सरकार में वाणिज्यिक निर्णय लेने का अभाव रहता है। सभी को आरोप तथा कोर्ट का डर भी रहता है। इसके वजह से सोच रहती है कि जो चल रहा है उसे चलने दो ऐसी सोच के साथ व्यापार नहीं किया जा सकता।

Leave a Reply

Your email address will not be published.