ट्रेन यात्रियों के लिए राहत भरी खबर गोरखपुर के साथ-साथ पूर्वोत्तर रेलवे के कई स्टेशनों से बनकर चलने वाली ट्रेनों में तकरीबन 15000 सीट बर्थ बढ़ा दी जाएगी, उपरोक्त निर्णय से यात्रियों को ट्रेन यात्रा करने में सहूलियत मिलेगी। और दिल्ली तथा मुंबई जाने वाली बिहार पूर्वांचल के प्रवासियों को कंफर्म टिकट के लिए इंतजार नहीं करना होगा। साथ ही रेलवे बोर्ड ने निर्णय लिया है इस नई व्यवस्था के अनुसार ट्रेनों में 5 से ज्यादा स्लीपर कोच नहीं लगाई जाएंगी और साधारण कोच हटा दी जाएंगी।

 

 

मतलब की ट्रेनों में 15000 वर्ष बढ़ाई जाएंगी और 130 से 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार को भी बढ़ाया जाएगा। एक्सप्रेस ट्रेन की रेक में बदलाव किया जाएगा और शयन तथा साधारण श्रेणी के स्थान पर इकोनामी एसी की बोगिया लगेगी । एलएचबी के सामान एसी कोच की तरीके से अनेक नौमी एसी कोचों को 72 के स्थान पर 83 सीट का इंतजाम किया जाएगा और हर कोच में कम से कम 11 सीट बढ़ाई जाएंगी। बता दें वैसे तो रेलवे में सामान्य दिनों में 136 एक्सप्रेस ट्रेनें चलती थी। परंतु अब 126 जोड़ी चल रही है। एसी बोगियों की खिड़कियां भी वर्तमान समय में बंद रहती हैं इस तरह से हवा का दबाव नहीं होने के कारण रफ्तार प्रभावित नहीं होगी,लोगों का समय बचेगा और कम समय में वह अपने स्थान पर पहुंच चुका है।

 

 

इकोनामी एसी बोगियां ऐसी होंगी।

इकोनामी एसी बोगियां अग्नि प्रतिरोधक मेटल के द्वारा बनाई जा रही हैं जिससे आग लगने के चान्सेज नहीं होंगे । इन बोगियों के गेट तथा अंदर के केबिन तथा टॉयलेट खिड़कियां और सीटें सभी चौड़ी होंगी साथ ही आरामदायक होगी और दिव्यांग यात्रियों को चलने में भी इनके द्वारा आसानी होगी। बर्थो पर लैपटॉप तथा मोबाइल के लिए चार्टर पॉइंट भी लगाया जाएगा।

 

 

फिलहाल 20 में एसी कोच को मंजूरी मिल गई है। कोचों के मिलने के साथ-साथ इनका इस्तेमाल भी शुरू हो जाएगा। पहले पुष्पक गोरखधाम तथा राप्तीसागर के साथ-साथ एक्सप्रेस ट्रेनों में भी इनका उपयोग किया जाएगा और सभी एक्सप्रेस ट्रेनों के रेट की संरचना में भी परिवर्तन होगा। एसी कोचों की संख्या भी इस तरीके से बढ़ा दी जाएगी। इकनोमिक कोच में यात्रियों को 11 बर्थ अतिरिक्त मिलेंगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *