अब बारिश में बहने वाले पानी को एकत्रित कर प्रयोग में लाया जाएगा इसके लिए निकायों में स्टॉर्म वॉटर ड्रेनेज के प्रोजेक्ट बनाए जाने का कार्य प्रारंभ हो गया है। निकायों में प्रोजेक्ट की डीपीआर भी बनाई जा चुकी है। हालांकि कई निकायों में अभी प्रशासनिक मंजूरी नही मिली है मंजूरी मिल जाए इस बाबत कई निकायों में मामला चल रहा है।

 

 

इस प्रकार एकत्रित होगा पानी।

उपरोक्त के साथ-साथ नगर विकास तथा आवास विभाग ने वर्तमान समय में कटिहार नगर निगम में स्टॉर्म वॉटर ड्रेनेज के फेस वन को मंजूरी दे दी है, जिसमें व्यय 220 करोड़ रुपए 50 लाख 92 हजार आएगी। बता दें इस योजना को 3 वर्ष में पूरा किए जाने का लक्ष्य है स्टॉर्म वॉटर ड्रेनेज के द्वारा घरों से निकलने वाले पानी तथा नालो आदि के जरिए से पानी को जमा किया जाएगा इस तरह से बेकार पानी का भी उपयोग हो सकेगा। बता दें पटना में बेऊर मीठापुर में स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज के प्रोजेक्ट को मंजूरी दी गई है।

 

 

ड्रेनेज सिस्टम का होगा इस प्रकार इस्तेमाल

इस स्टॉल वाटर ड्रेनेज को सिस्टम के जरिए ड्रेनेज लाइन बना कर एक आउट फॉल में गिरा दिया जाएगा। ये आउट फॉल पानी को ट्रीटमेंट कर साफ करेगा,जैसे कटिहार नगर निगम में 25.477 किमी की ड्रेनेज लाइन बनाई जाएगी। इसके साथ-साथ 3 आउट फॉल बनाए जाएंगे एक रोजी आउट फॉल, कोसी प्रोजेक्ट आउट फॉल तथा कारी कोशी आउट फॉल का निर्माण कराया जाएगा इस आउटकॉल द्वारा वर्षा द्वारा बहने वाला जल का उपयोग कर आवश्यकता के अनुसार इस जल का उपयोग कार्य किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *