भागलपुर,( कुलसूम फात्मा )  नए वित्तीय वर्ष पर विक्रमशिला कटरिया के मध्य गंगा नदी पर पुल का कंस्ट्रक्शन कार्य प्रारंभ हो जाएगा। इसके लिए आम बजट में पैसे भी आवंटित कर दिए गए हैं और इस पुल को बनाने के लिए आम बजट में तकरीबन 839 करोड़ रुपए की राशि आवंटित हो चुकी है।

 

पूर्व मध्य रेलवे के अधीन ये देश के सबसे लंबे पुलों में से एक होगा। इस पुल पर प्रस्तावित 18 किमी नौवगछिया पिरपैती तथा नई रेल लाइन के बिछाने का भी कार्य किया जाएगा। जिसमें आठ अरब 50 हजार की लागत आएगी। इसके लिए सर्वे के नाम पर वर्तमान समय में 57 लाख 35000 हजार रुपए खर्च कर दिए जा चुके हैं।

 

 

इस पुल के बनने से होगा यह लाभ

 

पुल के निर्माण से नई लाइन चालू होगी और साथ ही भागलपुर से कोसी तथा सीमांचल के इलाके रेल से सीधे जुड़ जाएंगे तथा दोनों समांतर नई रेल लाइन एक दूसरे से जुड़ेगी। इतना ही नहीं बल्कि नई लाइन पीरपैंती जसीडीह रेल खंड के द्वारा आसनसोल किउल और रेलखंड से भी सीधे जुडेंगी इसके साथ नवगछिया और कटिहार रेल सेक्शन भागलपुर से हावड़ा हंसडीहा से भागलपुर, दुमका रेल लाइन तथा देवघर दुमका लाइन से मिल जाएगी।

 

इस पुल के बनने से जुड़ेंगे कई मार्ग

आपको बता दें की इस पुल के बनने से गंगा नदी पर रेल पुल तथा नवगछिया पीरपैंती नई लाइन प्रारंभ होने से पिरपैंती जंक्शन के रूप में डिवेलप हो जाएगा और नई पीरपैंती जसीडीह की रेल लाइन बिछाने के पश्चात कोसी सीमांचल झारखंड तथा पश्चिम बंगाल रूट से मार्ग से इस नई लाइन से सीधे जुड़ेगी। फिर पिरपैंती से 1 लाइन भागलपुर की ओर तो एक लाइन मालदा हावड़ा मार्ग से मिल जाएगी

 

और गंगापुर तथा दोनों लाइन गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे का ख्वाब पूरा हो जाएगा। इस प्रोजेक्ट के लिए निशिकांत दुबे ने ड्रीम देखा था। इस बार बजट में पीरपैंती जसीडीह नई लाइन को तकरीबन 121 करोड़ रुपए की राशि आवंटित कर दी गई है।

 

 

भागलपुर का होगा कोसी तथा सीमांचल से रेल संपर्क।

 

रेल मंत्रालय गंगा पर यह रेल पुल को पीपीपी मोड में बनाया जाएगा हालाकि इस पुल की मंजूरी 2016 तथा 17 के रेल बजट में ही दे दी गई थी। परंतु निर्माण की गति आगे नहीं बढ़ाई जा सकीे अभी सर्वे का कार्य पूरा हो गया है। पूल कंस्ट्रक्शन पर दो हजार करोड़ खर्च होंगे। इस पुल के बनने से लाभ कई जनपदों को होगा। इस पुल के बन जाने से भागलपुर का सीधा कोसी तथा सीमांचल से रेल संपर्क हो जाएगा। वर्तमान समय में नवगछिया जाने के लिए सड़क का सहारा लेना पड़ता है, लेकिन इस पुल के बन जाने से सड़क का सहारा नहीं लेना पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.