बिहार में जमीन रजिस्ट्री की प्रक्रिया अब पूरी तरह से ऑनलाइन करने का लक्ष्य निर्धारित कर लिया गया है। जिसका फायदा पूरी तरह से बिहार के उन तमाम लोगों को मिलेगा जो अपने जमीन को बेचना या किसी जमीन को खरीदना चाहते हैं। बिहार सरकार ने यह व्यवस्था बिचौलियों को खत्म करने के लिए किया है, ऑनलाइन रजिस्ट्री की व्यवस्था सभी लोगों ने पूरी तरह से नहीं अपनाया है, अभी भी बिचोलीयो द्वारा ग्राहकों को किसी तरह समझा-बुझाकर ऑफलाइन रजिस्ट्री करा रहे हैं, इसमें बिचौलियों का अच्छा कमीशन बन जाता है, क्योंकि यह लोग खरीदने एवं बेचने दोनों पार्टियों से कमीशन लेते हैं।

 

नई व्यवस्था के तहत सरकार ने कर्मचारियों की नियुक्ति की है इसके लिए एक लिपिक दो कंप्यूटर ऑपरेटर और एक चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी शामिल हैं। ऑनलाइन रजिस्ट्री करने में आइ समस्या के निदान के लिए हेल्प डेस्क की व्यवस्था भी शुरू की गई है। भागलपुर जिले की बात की जाए तो व्यवस्था के तौर पर लगभग 100 लोगों के बैठने के लिए वातानुकूलित वेटिंग हॉल की व्यवस्था की गई है, तथा ऑनलाइन रजिस्ट्री में मदद करने के लिए चार हेल्प डेस्क काउंटर भी बनाए गए हैं, इसके साथ साथ रजिस्ट्री के लिए आने वाले लोगों के लिए चाय कॉफी तथा हल्का भोजन के लिए कैंटीन की व्यवस्था की गई है, बता दें कि यह कैंटीन जीविका दीदियों द्वारा संचालित की जाएगी।

 

आइए जानते हैं ऑनलाइन रजिस्ट्री से होने वाले फायदे के बारे में, बता दें कि ऑनलाइन रजिस्ट्री मॉडल डीड रजिस्ट्री कराने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि डीड राइटर समेत कई प्रकार के खर्चे से ग्राहकों को मुक्ति मिल जाती है, क्योंकि यहां ऑनलाइन हिंदी या अंग्रेजी में दस्तावेज तैयार किए जा सकते हैं जिसमें जमीन की बिक्री, घर की बिक्री जमीन दान के लिए दस्तावेज तैयार करने तथा कई अन्य प्रकार के आवेदन मॉडल डीड के तहत किए जा सकते हैं यह प्रक्रिया काफी आसान है जिसे कोई भी आसानी से कर सकता है।

 

मॉडल डीड में रजिस्ट्री करने के लिए सबसे पहले हेल्पडेस्क काउंटर से मॉडल डिड लेना होता है, उसके बाद हेल्प काउंटर पर जाकर बेचने तथा खरीदने वाले का नाम संपत्ति का विवरण आदि भरा जाता है, उसके बाद हेल्प काउंटर पर ही संपत्ति का मूल्य की गणना की जाती है, फिर रजिस्ट्री कार्यालय के एसीसी काउंटर या बैंक चालान तथा ऑनलाइन माध्यम से रजिस्ट्री शुल्क जमा किया जाता है।

 

इन प्रक्रिया के बाद हेल्प काउंटर की मदद से मॉडल डीड़ तैयार करके ऑनलाइन अपॉइंटमेंट लेना होता है, अपॉइंटमेंट मिलने के बाद निर्धारित तिथि पर हेल्प काउंटर पर पहुंचे एवं अपना दस्तावेज प्रस्तुत करें, अब इसके आगे की प्रक्रिया कंप्यूटर खुद करने में सक्षम है, निबंधन पूरे होने के बाद आप दस्तावेज प्राप्त कर सकते हैं। फ़ॉर्म http://nibandhan.bihar.gov.in/ इस वेबसाइट पर जाकर प्राप्त किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *