गोरखपुरवासियो के लिए बड़ी ख़ुस्ख़बरी आ रही है । अब अपने ज़िले के नौजवानो को ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आरटीओ दफ्तर के बाबुओं का चक्कर लगाने का झंझट ख़त्म हो गया है। क्योंकि आइटीआइ (औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान) चरगांवा के नवनिर्मित ड्राइवर प्रशिक्षण केंद्र (डीटीआइ) में प्रशिक्षण के साथ लाइसेंस भी जारी होगा। प्रशिक्षण और टेस्ट की जिम्मेदारी निजी कंपनी के हाथों में होगी। परिवहन विभाग के संभागीय निरीक्षक लाइसेंस जारी करेंगे। शुरुआत में सामान्य अभ्यर्थियों के लाइसेंस भी डीटीआइ में टेस्ट लेने के बाद ही जारी किए जाएंगे। आने वाले दिनों में प्रशिक्षण अनिवार्य हो जाएगा।

 

 

सिविल लाइंस स्थित परिवहन विभाग का लाइसेंस से संबंधित पूरा सिस्टम जून के अंत तक डीटीआइ चरगांवा में शिफ्ट हो जाएगा। शासन ने 15 जून से ही डीटीआइ में प्रशिक्षण शुरू करने तथा लाइसेंस जारी करने के लिए निर्देशित किया है, लेकिन डीटीआइ भवन परिवहन विभाग को हैंडओवर नहीं होने से यह नई व्यवस्था शुरू नहीं हो पाएगी। सिस्टम शिफ्ट करने में दस से 15 दिन लग जाएंगे। फिलहाल, परिवहन अधिकारियों ने सिस्टम को स्थानांतरित करने व एक संभागीय निरीक्षक की तैनाती करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। लगभग 489.56 लाख रुपये की लागत से डीटीआइ भवन, पांच अति आधुनिक ट्रैक और सेमुलेटर आदि का निर्माण हुआ है।

 

 

डीटीआइ में कोई भी व्यक्ति नियमानुसार निर्धारित शर्तों को पूरा करते हुए प्रशिक्षण प्राप्त कर अपना ड्राइ¨वग लाइसेंस बनवा सकता है। प्रशिक्षण के लिए न्यूनतम एक माह की अवधि निर्धारित है। प्रशिक्षु अपने घर से, क्वार्टर लेकर या हास्टल में रहकर प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं। हास्टल और कैंटीन की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। सिविल लाइंस स्थित आरटीओ दफ्तर भी माह के अंत तक गीडा के नवनिर्मित भवन में शिफ्ट हो जाएगा। गीडा स्थित आरटीओ कार्यालय में वाहनों के फिटनेस, पंजीकरण और ट्रैक्स आदि से संबंधित कार्य ही होंगे।

 

 

चरगांवा स्थित डीटीआइ को संचालित करने तथा आरटीओ दफ्तर को गीडा स्थानांतरित करने की प्रक्रिया माह के अंत तक पूरी कर ली जाएगी। अब डीटीआइ से ही ड्राइ¨वग लाइसेंस जारी किए जाएंगे। अभी सिर्फ परमानेंट ड्राइ¨वग लाइसेंस जारी हो रहे हैं। एक जुलाई से लर्निंग ड्राइ¨वग लाइसेंस भी बनने लगेंगे।

अनीता सिंह, संभागीय परिवहन अधिकारी- गोरखपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *