लॉकडाउन की घोषणा होने के बाद से ही दुकानदार आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति कम होने का बहाना करते हुए उपभोक्ताओं से अधिक कीमत वसूल रहे हैं। ऐसे में लोगों की परेशानी काफी बढ़ गई है। प्रशासन की ओर से दुकान खुलने का समय निर्धारित होने के कारण वे अपने घर से दूर जाकर खरीदारी नहीं कर सकते। स्थानीय प्रशासन ने लोगों को कालाबाजारी की मार से बचाने के लिए आवश्यक वस्तुओं की कीमतें निर्धारित कर दी हैं।

 

 

इसके अनुसार सरसो तेल का न्यूनतम खुदरा मूल्य 169 रुपये प्रति लीटर तथा रिफाइंड के लिए 159 रुपये प्रति लीटर तय कर दिया गया है। यदि कोई भी दुकानदार इससे अधिक कीमत की मांग करता है तो गलत कर रहा है और आप उसकी शिकायत जिला प्रशासन के पास कर सकते हैं। उसके खिलाफ नियम के अनुसार कार्रवाई की जाएगी। सरसों तेल (धारा) 166 प्रति लीटर 169 प्रति लीटर, सरसों तेल (सलोनी ) 173 प्रति लीटर 175 प्रति लीटर, सरसों तेल (हाथी मार्का) 181 प्रति लीटर 184 प्रति लीटर, रिफाइन (नेचर फ्रेश) 156 प्रति लीटर 159 प्रति लीटर

 

 

रिफाइन (फार्चून) 157.50 प्रति लीटर 160 प्रति लीटर, रिफाइन (सफोला गोल्ड) 175 प्रति लीटर 178 प्रति लीटर, कोरोना के इस कठिन समय में सभी की आर्थिक हालत खराब हो रखी है। ऐसे में कोई कालाबाजारी कर यदि आपसे अधिक पैसे लेना चाह रहा है तो इसकी सूचना प्रशासन को जरूर दें। हालांकि इस बारे में व्यापारियों का पक्ष अलग है। संगठन से जुड़े दिलीप कुमार कहते हैं कि महानगरों में बैठे बड़े घराने कीमत को बढ़ाने का खेल कर रहे हैं। वे लोग बड़े पैमाने पर खरीदारी कर अपना ब्रांड तैयार करते हैं और अधिक कीमत पर इसे बेचते हैं। यह केवल सरसों तेल में नहीं वरन दाल व अन्य जरूरी चीजों में भी है। केवल कीमत का ही नहीं वजन में भी ये लोग गोलमाल करने से नहीं चूक रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.