बिहार में जमीन के कागजात लोगों के लिए सबसे बड़ी समस्या का कारण है। जमीन के कागजात निकलवाने के लिए लोगों को जरूरत से ज्यादा पैसे खर्च करने पड़ते हैं इसके अलावा अधूरी जानकारी के वजह से बिचौलियों की मदद लेनी पड़ती है। जिसमें और ज्यादा पैसा खर्च होता है।

 

 

बिहार राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग इन सभी समस्याओं का समाधान लेकर आ रहा है। अब किसी भी जमीन का नक्शा या खाता खेसरा का पूरी जानकारी ऑनलाइन की जा रही है। जिसके लिए विभाग ने पूरी तैयारी कर ली है, इसके लिए विभाग के सभी अंचलों में रिकॉर्ड रूम बनाया गया है। इस रिकॉर्ड रूम में उस अंचल के अंतर्गत आने वाले भूखंड के नक्शे एवं खाता खेसरा का समस्त जानकारी कंप्यूटर में अपलोड रहेगा।

 

 

अगर किसी भी व्यक्ति को जमीन का नक्शा मौजा का नक्शा या खाता खेसरा का कागज चाहिए होगा तो बिचौलियों की मदद अब नहीं लेनी पड़ेगी। सूचना के अधिकार के तहत कोई भी व्यक्ति आसानी से चालान भर के दस्तावेज निकाल सकता है। इसके अलावा आप घर बैठे भी मौजा का नक्शा या जमीन के किसी भी प्रकार का दस्तावेज अपने घर मंगा सकते हैं।

 

 

अब लोगों को कर्मचारियों के पीछे दौड़ लगाने से छुटकारा तो मिलेगा ही साथ साथ बिचौलिए भी पूरी तरह से खत्म हो जाएंगे। आपको बता दें कि अंचल में बन रहे इस रिकॉर्ड रूम में कुल 26 प्रकार के दस्तावेज डिजिटल रूप से उपलब्ध रहेंगे। इसमें जमीन का नक्शा खतियान रजिस्टर 2 मौजा का नक्शा इत्यादि शामिल है।

 

 

हालांकि दस्तावेज की प्राप्ति के लिए किसी भी व्यक्ति को कितने शुल्क जमा करने होंगे इस पर कोई फैसला नहीं लिया गया है। मिली जानकारी के अनुसार अब तक 400 अंचलों में रिकॉर्ड रूम बनकर तैयार हो चुका है। विभाग फिलहाल नियमावली बनाने की प्रक्रिया में लगा है उम्मीद है, अगले महीने यानी जुलाई में प्रक्रिया पूरी करने के बाद लोगों को दस्तावेज उपलब्ध कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.