गोरखपुर,( कुलसूम फात्मा ) अब उपभोक्ताओं से बिजली का बिल स्मार्ट मीटर में पोस्टपेड कनेक्शन को प्रीपेड में बदल कर वसूला जाएगा जी हां बिजली का बिल वसूलने के लिए नई तकनीक का उपयोग किया जा रहा है।  स्मार्ट मीटर वाले अब बिजली के बकायेदारों के विरुद्ध निगम के अफसर नए तरीके से कार्रवाई करना प्रारंभ कर रहें हैं  ऐसे उपभोक्ता जो बिजली तो प्रयोग कर रहें हैं परंतु बिजली का बिल नहीं जमा करते अब उनके लिए स्मार्ट पोस्टपेड कनेक्शन वाले उपभोक्ताओं को प्रीपेड कैटेगरी में परिवर्तित कर दिया जाएगा स्मार्ट मीटर में पोस्टपेड कनेक्शन को प्रीपेड में परिवर्तित करने की सुविधा उपलब्ध है। ऐसा होने पर उपभोक्ताओं को पहले मीटर रिचार्ज कराना पड़ेगा फिर वह बिजली का उपयोग कर पाएंगे

 

 

 

गोरखपुर में पिछले वर्ष स्मार्ट मीटर लगाने का कार्य प्रारंभ हुआ था। स्मार्ट मीटर लगाने की जिम्मेदारी लार्सन एंड टूब्रो कंपनी को सौंपी गई थी। कंपनी ने बक्शीपुर में अपना कार्यालय बनाकर मीटर लगाना प्रारंभ किया था। सब सर्वप्रथम उन एरिया को चयनित किया गया जहां पर लाइन लास सबसे अधिक थी। पिछले वर्ष अगस्त महीने में जन्माष्टमी के दिन तकनीकी खराबी आ जाने के कारण प्रदेश के लाखों स्मार्ट बिजली मीटर एकदम से बंद हो गए थे और बहुत समय जूझने के पश्चात यह खराबी दूर की जा सकी। इसके बाद बिजली निगम ने स्मार्ट मीटर लगाने के कार्य पर मनाही कर दी। निर्देश दिए गए की नए कनेक्शन पर पहले की ही तरीके से इलेक्ट्रॉनिक मीटर लगा दिए जाएं  उसके बाद उपभोक्ताओं ने शिकायत की  के स्मार्ट मीटर की रफ्तार बहुत तेज है। स्मार्ट मीटर तेज चल रहे हैं शिकायत के बाद अफसर  सुनवाई भी नहीं कर रहे हैं।

 

 

 

गोरखपुर शहर में स्मार्ट मीटर वाले 27 सौ से अधिक उपभोक्ताओं के बिल बकाया है। स्मार्ट मीटर के द्वारा बिजली के सप्लाई रोकना बहुत ही इज़ी है। अधिशासी इंजीनियर अपने कार्यालय में बैठकर ही सर्वर के जरिए स्मार्ट मीटर बंद कर सकते हैं। बकाया जमा होने के पश्चात ही स्मार्ट मीटर फिर से चलाया जा सकता है। अधीक्षण इंजीनियर शहर यूसी वर्मा ने बताया बकाया ना जमा करने वालों के स्मार्ट मीटर अब प्रीपेड में बदलने के कार्य की तैयारियां की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.