शुक्रवार, दिसम्बर 3

गोरखपुरवासियो के लिए बड़ी खुशखबरी इन रूटों पर चलेंगी नयी ट्रेने, ट्रायल पूरी तरह सफल

लॉकडाउन के दौरान ट्रैक्स व सिग्नलिंग सिस्टम चॉक चौबंद करने के साथ ही इलेक्ट्रिक लाइन बिछाने में एनई रेलवे ने बड़ी उपलिब्ध हासिल की है। वाराणसी मंडल के भटनी-औंड़िहार (125 किमी), भटनी-किड़िहरापुर व औड़िहार-इंदारा के मध्य इलेक्ट्रिक लाइन न केवल कंप्लीट कर ली गई बल्कि इन रूट्स पर इलेक्ट्रिक इंजन दौड़ा कर ट्रायल भी कर लिया गया है। शीघ्र रेल संरक्षा आयुक्त के निरीक्षण के बाद इलेक्ट्रिक ट्रेन दौड़ने लगेगी। गोरखपुर से वाराणसी के बीच का बड़ा हिस्सा विद्युत रेल खंडों से जुड़ जाएगा।

विद्युतीकरण के लिहाज से भटनी-औड़िहार के 125 किमी का विद्युतीकरण चुनौतीपूर्ण रहा। 19 जून को औड़िहार-इन्दारा के मध्य इलेक्ट्रिक इंजन ट्रायल सफल रहा। बीते साल पूर्वोत्तर रेलवे ने 540 किमी रूट का विद्युतीकरण पूरा कर लिया गया था। वर्ष 2016-17 में 159.20 किमी, 2017-18 में 167.14 किमी, व 2018-19 में 431.23 किमी रूट के इलेक्ट्रिफिकेशन पूरा किया गया था। विद्युतीकरण से ध्वनी और वायु प्रदूषण से बहुत हद तक निजात मिलती है। वहीं डीजल पर निर्भरता भी कम होती है।

इस बाबत सीपीआरओ पंकज कुमार सिंह का कहना है कि अन्य खण्डों पर भी विद्युतीकरण लगभग पूरा किया जा चुका है। लखनऊ मण्डल के गोण्डा-सुभागपुर खण्ड (11 किमी) पर भी 19 जून को इलेक्ट्रिक इंजन का ट्रायल सम्पन्न हुआ। इज्जतनगर मण्डल पर कासगंज-बरेली खण्ड (108 रूट किमी) के विद्युतीकरण का कार्य भी लगभग पूर्ण कर लिया गया है। इन खण्डों पर शीघ्र ही रेल संरक्षा आयुक्त द्वारा निरीक्षण किया जायेगा । इन तीनों खण्डों के विद्युतीकरण होने के बाद एनई रेलवे के कुल 1967 किमी रूट रेलपथ विद्युतीकृत हो जाएगा ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *