मधुबनी- बिहार राज्य सरकार ने प्रदेश में आरटीपीएस काउंटरों के संबंध में बड़ा निर्णय लिया है। सरकार ने सभी पंचायतों के लिए आरटीपीएस काउंटर खोले जाने का निर्देश दिया है अबतक जाति या आवास तथा आय, अन्य प्रमाण पत्र बनाने के लिए ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को प्रखंड मुख्यालय के चक्कर लगाने पड़ेंते थे लेकिन अब हर पंचायत मे आरटीपीएस काउंटर खुल जाने से प्रखंड मुख्यालय के चक्कर लगाने से निजात मिल जाएगी क्योंकि अब प्रमाण पत्र के साथ-साथ बाकी डाक्यूमेंट्स भी पंचायत सरकार भवन में ही बन जाएंगे।

 

 

प्रखंड के पंचायती राज पदाधिकारी ने बताया अगस्त की 15 तारीख से प्रखंड के प्रत्येक पंचायतों में आरटीपीएस काउंटरों द्वारा उपर्युक्त डाक्यूमेंट्स को बनाने का कार्य प्रारंभ हो जाएगा। बताया की प्रखंड क्षेत्र लदनिया में केवल 9 कार्यपालक सहायक की जिम्मेदारी सभी पंचायतों की आरटीपीएस काउंटर को संचालित किया जाएगा। दूसरी तरफ पंचायत के आरटीपीएस काउंटर से जाति आय आवासीय प्रमाण पत्रों को भी जारी किया जाएगा और यह हर जगह पर मान्य होगा।

 

आरटीपीएस काउंटर का समय –

अगस्त की 15 तारीख से आरटीपीएस काउंटर के लिए डिपार्टमेंट ने समय को जारी कर दिया है। पंचायतों में आरटीपीएस काउंटर खोलने का समय सुबह के समय 10:00 बजे रखा गया और दोपहर 12:30 तक तथा 2:00 से शाम 5:00 बजे तक ये काउन्टर खुले रहेंगे इस समय के अंदर कोई भी व्यक्ति यदि जाति आवासीय या फिर आय अन्य बाकी प्रमाण पत्र बनवाने आएगा तो उसका कार्य हो सकेगा।

बीपीआरओ से वार्तालाप करने के पश्चात पता चला अगस्त की 15 तारीख से प्रखंड की केवल 2 पंचायत क्रमांक क्रमशा: खोजा तथा बेलाही में नवनिर्मित पंचायत सरकार भवन आरटीपीएस काउंटर को चलाएगी। हाला के बता दें 13 पंचायतें जो बचेंगीे उनमें पुरानी पंचायत भवन में ही काउंटर खोल दिए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *