भागलपुर,( कुलसूम फात्मा ) भागलपुर और मुंगेर के मध्य बस सेवा का यात्री पिछले कई वर्षों से लाभ नहीं उठा पा रहे थे। इसका कारण यह था कि घोरघाट पुल पर बड़े वाहनों के परिचालन पर रोक लगा दी गई थी। जिसकी वजह से मुंगेर और भागलपुर से आने तथा जाने वालों को बहुत ही ज्यादा परेशानी उठानी पड़ रही है। परंतु पिछले लंबे समय के पश्चात अब निर्णय लिया गया है कि भागलपुर तथा मुंगेर के मध्य बस सेवा यात्रियों के लिए उपलब्ध कराई जाएगी।

 

 

असल में भागलपुर तथा मुंगेर प्रमंडल को घोरघाट पुल जोड़ता है और वर्ष 2006 मैं घोरघट ब्रिज टूटा फूटा था जिसके पश्चात इस पुल पर जो वाहन भारी थे उन वाहनों को इस पुल से गुजरने पर पाबंदी लगा दी गई थी। भारी वाहनों में चूकि बस भी सम्मिलित है। इसलिए पिछले 15 वर्षों से भागलपुर और मुंगेर के मध्य बस सेवा का लाभ यहां के लोग नहीं उठा पा रहे हैं।

 

बनाया जा रहा है नया पुल।

 

 

इससे पूर्व में इस रूट से तकरीबन 10 से 12 बसे चलती थी, परंतु 15 वर्षों से यह बसों के चलने पर पाबंदी लगा दी गई है। घोरघाट के पुराने पुल के पास अब नया पुल बनाया जा रहा है। बता दें की यह पुल मार्च के 2021 तक पूरा हो जाएगा। जिसके पश्चात बिहार राज्य पथ परिवहन निगम के कर्मचारियों को एक बार फिर यात्रियों को मुंगेर से भागलपुर और जमुई के मध्य बस सेवा प्राप्त हो सकेगी। इसके साथ ही उन्होंने इस रूट को दोबारा प्रारंभ करने की तैयारी भी कर ली है।

 

परिवहन निगम के अधिकारियों से जब बातचीत किए तो उन्होंने बताया कि घोरघाट का यह नया पुल चालू होने पर मुंगेर तथा जमुई के मध्य बस सेवा प्रारंभ हो जाएंगी। जनवरी की 15 तारीख 2021 तक मुख्यालय से भागलपुर डिपो के लिए 15 बसें चलाई जाएंगी।

 

 

झारखंड के लिए भी प्रारंभ की जा रही है बस सेवा।

 

 

आपको बता दें की यह बस सेवा 13 वर्ष से रांची धनबाद बोकारो देवघर गोड्डा के साथ-साथ झारखंड राज्य की बस सेवा पर पाबंदी लगा दी गई थी। यानी बंद थी। और पहले राज्य ट्रांसपोर्ट की बसें सभी जगह चलती थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *