#

गोरखपुर,( कुलसूम फात्मा )  गोरखपुर वासियों के लिए राहत भरी खबर गोरखपुर सोनौली हाईवे पर मनीराम से गंगी बाजार सड़क के चौड़ीकरण से रिनोवेशन होने से महाराजगंज जाने के लिए एक नया मार्ग मिलेगा ये तकरीबन 17 किलोमीटर लंबी सड़क तथा 7 मीटर चौड़ी सड़क होगी। इसके कंस्ट्रक्शन पर तकरीबन 32 करोड़ ₹ की लागत आएगी। बता दें मनीराम से भटहट को जोड़ने वाली सड़क बाईपास के रूप में होगी। इस लोक निर्माण विभाग ने इस सड़क को लेकर निविदा जारी कर दी है।

 

बता दे महाराजगंज जनपद में बहुत ज्यादा आबादी है। जो पनियारा होते हुए जाती है। वर्तमान समय में सकरी सड़क होने से लोगों को बहुत परेशानी होती थी। 7 किलोमीटर लंबाई में सड़क 5.50 मीटर चौड़ी है। वहीं दूसरी ओर बाकी सड़क 3.75 मीटर चौड़ी है। टोटल 16.3 किलोमीटर लंबी सड़क मनीराम से प्रारंभ होकर बालापार टिकरिया गांधी बाजार होते हुए महाराजगंज की सीमा में प्रवेश करेगी।

 

इस रोड के बनने से गोरक्षपीठ के मेडिकल कॉलेज तथा प्रस्तावित आयुष विश्वविद्यालय तथा वेटरनरी कॉलेज का मार्ग आसान हो जाएगा। मनीराम से महाराजगंज चौराहा तक सड़क पर 5.50 मीटर चौड़ी है। दूसरी ओर महाराजगंज चौराहे से गांगी बाजार तक तकरीबन 9 किमी लंबाई में सड़क केवल 3.75 मीटर ही चौड़ी है।

 

40 गांव के लोगों को मिलेगी सहूलियत

बता दें की चिलुआताल सड़क चौड़ी होने से गोरखपुर तथा महाराजगंज जनपद के तकरीबन 40 गांव के डेढ़ लाख आबादी को फायदा पहुंचेगा। सड़क बनने से महाराजगंज, परमेश्वरपुर, अजीतपुर, रघुनाथपुर, करमऊरा, गांधी बाजार, मुजरी बाजार, भावनीपुर गोनहा अन्य के लोगों में बहुत खुशी का माहौल है।

 

गोरखपुर से सोनौली रोड मार्ग तथा असुरन से पड़ताल मार्ग के लिए यह रोड बाईपास का कार्य करेगी। भटहट से मनीराम तक तकरीबन 24 किमी लंबा बाईपास बनाया जाएगा और भटहट सेवा संस्थान की ओर आने वाली सड़क प्रस्तावित सड़क मलंग स्थान पर मिल जाएगी, जिससे लाखों की आबादी को सहूलियत मिलेगी। बांस स्थान के समीप ही आयुष विश्वविद्यालय और वेटरनरी कॉलेज भी खुला प्रस्तावित किया गया है। इसे ध्यान में रखते हुए इस सड़क काफी लाभ पहुंचाएगी तकरीबन 17 किमी लंबे सड़क के चौड़ी होने से वित्तीय मंजूरी मिलने के बाद निविदा जारी कर दी जाएगी। इस सड़क पर गोरखपुर के साथ-साथ महाराजगंज जनपद की बड़ी संख्या में आबादी को सहूलियत मिलेगी और आने वाले समय को देखते हुए सड़क काफी महत्वपूर्ण साबित होगी। सड़क के लिए डिपार्टमेंट के पास काफी जमीन भी उपलब्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *