#

गोरखपुर,( कुलसूम फात्मा )  ट्रेन यात्रियों को यात्रा करने के बीच उनके मनपसंद भोजन की सुविधा ही नहीं बल्कि पिज़्ज़ा बर्गर की भी ट्रेन में व्यवस्था की गई है ट्रेन में पैंट्रीकार या फिर साइड वेंल्डिंग की सुविधा तो नहीं है लेकिन खाने के पैकेट अब यात्रियों की सीटों पर पहुंचाए जाएंगे।

 

 

गोरखपुर तथा लखनऊ और वाराणसी के साथ-साथ पूरे देश के 90 रेलवे स्टेशन पर आईआरसीटीसी ने एक बार फिर ईकैटरिंग की सुविधा ट्रेन यात्रियों के लिए प्रारंभ कर दी है। इन यात्रियों को उपर्युक्त सुविधा का लाभ उठाने के लिए आईआरसीटीसी की वेबसाइट के फूड ऑन ट्रैक तथा फोन नंबर जो 1323 है, इस पर कॉल करना होगा और इस तरह ऑनलाइन ऑर्डर करना होगा। अब फूड चेन कंपनी के वेंडर खाना और नाश्ता लेकर स्टेशन पर पहुंचेंगे और ट्रेन में यात्रा करने वाले यात्रियों को खाने की डिलीवरी सीट पर ही पहुंचा देंगे।

 

खास बात तो यह है की यात्री अगर चाहे तो वह ऑनलाइन पेमेंट के अलावा कैश ऑन डिलीवरी का ऑप्शन भी चुन सकेंगे। यह ई-कैटरिंग सुविधा से सभी प्रमुख रेस्टोरेंट तथा फूड चेन कंपनियों को जोड़ दिया गया है और लिट्टी चोखा जैसे स्थानीय व्यंजनों के साथ-साथ पूरी सब्जी तथा चावल दाल और दही खीर के साथ-साथ पनीर मटन, चिकन, बिरयानी, मछली, पिज़्ज़ा तथा बर्गर जैसे स्वादिष्ट पकवान का यात्री आनंद उठा सकेंगे। साल 2014 से प्रारंभ हुई इस ई-कैटरिंग व्यवस्था को 22 मार्च 2020 से लॉकडाउन के कारण बंद कर दी गई थी। लेकिन लंबे समय के बाद यह व्यवस्था पुनः प्रारंभ की जा रही है। अब यात्री चाहे तो इस सुविधा का लाभ उठाएं।

 

वो ट्रेन जो लंबे सफर को तय करती हैं, उनकी धीरे-धीरे पैंट्रीकार की व्यवस्था समाप्त हो रही है। साइड वेंल्डिंग की सुविधा भी वर्तमान समय में परवान नहीं चढ़ पा रही है। ऐसी स्थित में अब सारा जोर e-catering पर ही है। 20 वर्ष या फिर इससे अधिक उम्र होते ही पैंट्री कार को भी बेकार घोषित कर दिया जाता है। और नए लिकहाफमैन बुश कोच में पेंट्री कार नहीं आ रही है। गोरखपुर से बनकर चलने वाली केवल गोरखपुर एलटीटी एक्सप्रेस में ही ये पैंट्री कार उपलब्ध है तथा अन्य ट्रेनों में यह व्यवस्था हटा दी गई है।

 

 

यात्रियों की मांग पर 90 स्टेशनों पर है यह व्यवस्था

 

फरवरी की 1 तारीख से 62 रेलवे स्टेशन पर केवल ई कैटरिंग सेवा प्रारंभ की जानी थी, परंतु यात्रियों की मांग बढ़ी जिसके कारण 3 दिन में ही स्टेशनों की संख्या को बढ़ा दिया गया। इस संख्या को बढ़ाकर 90 कर दिया गया है और आने वाले दिनों में बाकी स्टेशनों को भी इसमें जोड़ा जाएगा। डिलीवरी के दौरान प्रोटोकॉल का पूर्ण रुप से पालन भी किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *