बिहार,( कुलसूम फात्मा )  बिहार सरकार मुर्गी पालन को बढ़ावा देने तथा लोगों को रोजगार मुहैया कराने के लिए समेकित मुर्गी विकास योजना के जरिए 3000 छमता के ब्रायलेट पोल्ट्री फॉर्म पर अनुदान दे रही है। इसमें अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजाति के बेनिफैक्टर्स को 50% तथा सामान्य जाति के बेनिफैक्टर्स को 30% अनुदान दिया जाएगा।

 

सूचना के अनुसार समेकित मुर्गी विकास प्लान के द्वारा ब्रायलर पोल्ट्री फॉर्म तकरीबन 3000 छमता के आधारभूत संरचना के निर्माण पर अनुदान दिया जाना है, जिसमें फॉर्म के निर्माण के लिए भूमि की भी व्यवस्था स्वयं ही करनी पड़ेगी। 3000 छमता वाले पोल्ट्री फॉर्म के बेसिक संरचना निर्माण के लिए कम से कम 7000 वर्ग फिट जमीन की जरूरत है जिसमें प्रस्तावित भूमि रोड के किनारे होना आवश्यक है जिससे परिवहन की भी सुविधा हो सके।

 

ऑनलाइन आवेदन के लिए आवश्यक होगा यह डॉक्यूमेंटस।

इस योजना के जरिए आवेदन करने के लिए उद्धतन लगान रसीद तथा एलपीसी ,लीज इकरारनामा,नजरी नक्शा, बैंक पासबुक की फोटो कॉपी तथा सरकारी संस्थानों से पांच दिवसीय मुर्गी पालन प्रशिक्षण प्रमाण पत्र फोटो,आधार, वोटर आईडी, पैन कार्ड, आवास प्रमाण पत्र तथा अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजाति के लाभार्थियों के लिए जाति प्रमाण पत्र लगना अनिवार्य रखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.