#

वर्तमान समय में बिहार में चीन में कांच के बने पुल की तर्ज पर एक ग्लास ब्रिज तैयार किया गया है जिसका उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया। खूबसूरत राजगीर का ग्लास ब्रिज पर्यटकों को बेहद लुभा रहा है  चारों ओर से पहाड़ियों से घिरे इस खूबसूरत राजगीर को लोग दूर-दूर से देखने और आनंद लेने आते हैं। जिसके चलते देश के दूसरे ग्लास से स्काईवॉक ब्रिज पर चलने वाले पर्यटकों की लगातार भीड़ बढ़ती जा रही है।

 

 

उपरोक्त के कारण हाल ही में पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग अधिकारियों के लिए चिंता का विषय निरंतर बनता जा रहा है। यदि ब्रिज की क्षमता की बात करें तो ब्रिज की क्षमता देखते हुए रोजाना ग्लास स्काई वॉक पर जाने वालों की संख्या अधिक है जिस को कंट्रोल करने का निर्णय लिया गया।  वर्तमान समय में ब्रिज की क्षमता को ध्यान में रखते हुए हर दिन ग्लास स्काईवॉक पर जाने वालों की संख्या पर रोक लगा दी गई है। इस सख्या को सीमित कर 800 कर दिया गया है। यानी के अब दिन में केवल 800 लोगों को ही इस पर चढ़ने की इजाजत दी जाएगी

 

 

उपरोक्त के साथ मुख्यमंत्री ने जू सफारी तथा नेचर सफारी का भी उद्घाटन किया। इसका आनंद उठाने के लिए बड़ी तादाद में लोग आने लगे हैं। साथ ही नवनिर्मित रोपवे में भी 1 घंटे में 800 लोग सफर कर रहे हैं। यहां पर 250 फुट की ऊंचाई पर बने हुए इस ट्रांसपेरेंट ब्रिज पर चलना बड़ा खूबसूरत एहसास दिलाता है।

 

हालांकि ब्रिज की क्षमता केवल 15 से 17 लोगों का वजन उठाने की ही है, लेकिन 10 लोगों को इस पर घूमने की अनुमति दी गई है। इस पर 10 से 15 मिनट तक लोग रुकते हैं और फोटो खिंचवाते हैं। मजे लेते हैं यही नहीं साथ ही दूरदराज से भी लोग यहां पर आनंद लेने के लिए आते हैं। वर्तमान में सुविधा को देखते हुए 25% टिकट ऑनलाइन करने की कवायद चल रही है, हालांकि अगर रोजाना 800 लोगो की संख्या पर ऑनलाइन टिकट जारी कर दिए जाएंगे तो मानना है लोग 200 तक ऑनलाइन टिकट लें लेंगे गिलास स्काई वॉक पर सैर के लिए टिकट रेट 125 रखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *