बिहार के सभी बिजली उपभोक्ताओं के लिए ज़रूरी सूचना, राज्य सरकार की नई योजना के अनुसार पूरे बिहार में 2025 तक बिहार के सभी घरों में पारम्परिक मीटर हटा कर स्मार्ट प्री-पेड़ मीटर लगा दिए जाएँगे। आपको बता दें की बिहार पहला ऐसा राज्य है जहां स्मार्ट प्री-पेड मीटर लगाने की योजना आइ है। रेकर्ड के अनुसार अबतक 2.80 लाख स्मार्ट प्री-पेड मीटर बिहार के अलग अलग ज़िलों में लगाए जा चुके है।

 

अब बिहार सरकार 11,100 करोड़ रुपए खर्च करके स्मार्ट प्री-पेड मीटर निःशुल्क लगाने की योजना शुरू कर रही है, इस मुद्दे पर नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई बैठक में ऊर्जा विभाग द्वारा इस योजना पर मुहर लगा दिया गया है। साल 2019 से बिहार में स्मार्ट प्री-पेड लगाने का कार्य किया जा रहा है। बिजली कंपनी की ये अबतक की सबसे बड़ी योजना बताई जा रही है।

 

इस योजना में राज्य सरकार बिजली कंपनी को कुल लागत का 45 फ़ीसद राशि मुहैया कराएगी और शेष 55 फ़ीसद राशि 8 वर्षों में मासिक किस्तों में मुहैया कराई जाएगी। बता दें की यह पूरा कार्य EESL एनर्जी एफ़िसिएंसी सर्विसेज लिमिटेड द्वारा किया जा रहा है, इस कंपनी के द्वारा शहर के साथ साथ कृषि और नल जल योजना में भी स्मार्ट प्री-पेड मीटर लगाय जा रहा है।

 

बिहार के डेढ़ करोड़ से अधिक बिजली उपभोक्ताओं के यहां अगले चार सालों में स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाया जाएगा। साल 2025 तक सभी उपभोक्ताओं के यहां नि:शुल्क स्मार्ट प्री-पेड मीटर लगाने के लिए राज्य सरकार अपनी योजना शुरू करेगी। इस मद में सरकार 11,100 करोड़ रुपए खर्च करेगी। बिजली कंपनी की यह अबतक की सबसे बड़ी योजना है। सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट में ऊर्जा विभाग की इस योजना पर मुहर लग गई। राज्य कैबिनेट ने कुल 12 एजेंडों पर मुहर लगाई।