गोरखपुर,( कुलसूम फात्मा )  अब हैंडीकैप भी वाहन को अपने अनुसार बदलवा कर बनवा सकेंगे। परिवहन विभाग अडॉप्टेड के नाम पर उनका ड्राइविंग लाइसेंस जारी करेगी और परिवहन विभाग इन हैंडीकैप्ड के लिए लाइसेंस जारी करता आया है। परंतु जानकारी के अभाव में लोग इसका फायदा नहीं उठा पाते हैं। विभागों में इन दिव्यांग जनों के लिए खास एडिशनल अरेंजमेंट करना तय किया है।

 

 

उपर्युक्त जानकारी डिविजनल ट्रांसपोर्ट ऑफीसर अनीता सिंह ने दी वह राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह के जरिए कंसोलिडेटेड क्षेत्रीय कौशल विकास पुनर्वास तथा हैंडीकैप्ड सशक्तिकरण केंद्रों में आयोजित जन जागरूकता प्रोग्राम को संबोधित कर रहे थे। इसी बीच हैंडीकैप के लिए ड्राइविंग लाइसेंस तथा बाकी प्रावधान के संबंध में चर्चा की

 

और सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी श्यामलाल ने भी बताया के हियरिंग मशीन का उपयोग करने वाले श्रवण बाधित हैंडीकैप तथा एक आंख की रोशनी रखने वाले दिव्यांग के लिए हल्के वाहनों के लिए अब ड्राइविंग लाइसेंस जारी करने का प्रावधान किया गया है। बाकी तरह के दिव्यांग को चिकित्सक के सुझाव पर ड्राइविंग लाइसेंस जारी किए जाते हैं और अडॉप्ट व्हीकल बनवाने वाले पूरे दिव्यांगों को वाहन रजिस्ट्रेशन के लिए बाकी टैक्स की छूट मिलती है

 

इस जिला सड़क सुरक्षा समिति की मीटिंग जिला अधिकारी कार्यालय के सभागार में दोपहर के बाद प्रारंभ हुई। इस मीटिंग की अध्यक्षता बास गांव के सांसद कमलेश पासवान ने की और यह अच्छी खबर श्यामलाल ने दी उन्होंने बताया राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह के तहत रोजाना विविध कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। कार्यक्रम से लोगों मेंं यातायात संबंधी जागरूकता फैलाई जाएगी और जिसका उनको पालन करना होगा असल में यह मीटिंग इसी सिलसिले में आयोजित की गई थी और जब मीटिंग हुई तो हैंडीकैप तथा अन्य कई पहलूओं पर विचार विमर्श किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.