#

भारत वासियों के लिए 1 जुलाई से रोजमर्रा के जीवन में चार महत्वपूर्ण एवं बड़े बदलाव किए जा रहे हैं। इन बदलावों का असर सीधा आपके जेब पर भी दिखेगा। इन बदलावों में बैंक से लेकर के LPG सिलेंडर एवं ड्राइविंग लाइसेंस तक के नियमों में बदलाव किए गए हैं, आइए जानते हैं इन बदलावों की पूरी डीटेल। सबसे पहला बदलाव बैंक नीयमो को लेकर किया गया है आने वाले एक जुलाई से sbi के खताधारको को नया चार्ज देना पड़ेगा।

 

 

पहले atm से चार बार पैसे निकालने पर कोई चार्ज नहि लगता था अर्थात् बैंक से कितना बार भी कैश निकलते थे तो कोई चार्ज नहि देना पड़ता था, लेकिन अब बैंक या atm दोनो में कही भी कैश की निकासी करेंगे तो महीने का चार निकासी ही फ़्री होगा यानी बैंक से निकासी की भी गिनती की जाएगी। और उससे अधिक बार निकासी करने पर 15 रु + GST अब खाताधारकों को देना होगा।

 

 

सिंडिकेट बैंक और केनारा बैंक के विलय होने की वजह से इसकी बैंकिंग डिटेल बदलने वाली है। यानी आगामी 1 जुलाई से सिंडिकेट बैंक की शाखाओं का आईएफएससी कोड 1 जुलाई से बदल जाएगा। केनारा बैंक का कहना है कि 1 जुलाई से हमारे सभी ग्राहकों को एनईएफटी आरटीजीएस आइएमपीएस के जरिए पैसे अपने खाते में लेने के लिए नए आईएफएससी कोर्ट का इस्तेमाल करना होगा। नया IFSC कोड केनारा बैंक के वेबसाइट canarabank.com/IFSC.Html पर उपलब्ध होगा। अब पूर्ववर्ती सिंडिकेट बैंक के खाताधारकों को नए IFSC और ISMR कोड वाला चेक बुक लेना होगा।

 

 

 

ड्राइविंग लाईसेंस बनवाने वालों के लिए बड़ी खुशखबरी यह है की अब लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस बनवाले के RTO दफ़्तर कार्यालय का चक्कर काटने का झंझट पूरी तरह से 1 जुलाई से ख़त्म हो जाएगा। सरकार ने इस बात की पूरी तैयारी कर ली है। योजना यह है की लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने वाले चालकों को पूर्ण प्रशिक्षण देने के बाद ही परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस जारी किया जाए। इस फ़ैसले से लोगों को बड़ी राहत मिलेगी। सरकार ने Covid 19 महामारी के कारण अपनी प्रत्यक्ष कर विवाद निवारण योजना ‘विवाद से विश्वास’ (Vivad Se Vishwas scheme) के तहत भुगतान करने की समय-सीमा दो महीने और बढ़ाकर 30 जून तक कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *