Wednesday, January 19

अब ख़त्म हुआ बिहार का बड़ा संकट, समस्त बिहारवासियो के लिए बड़ी ख़ुशख़बरी

बिहार को देश के सबसे पिछड़े राज्यों की सूची में रखा जाता है। पिछले दिनों केंद्र सरकार ने एक रिपोर्ट के हवाले से संसद में बताया था कि बिहार देश का सबसे पिछड़ा राज्य है। गरीबी और भुखमरी के मामले में बिहार सबसे आगे है। ऐसा नीति आयोग की हालिया रिपोर्ट कहती है। लेकिन अब इस राज्य के लोगों के लिए एक बड़ी खुशखबरी सामने आई है। अक्सर गरीब राज्य कहा जाने वाला बिहार अब जल्द मालामाल होने वाला है। आइए जानते हैं कैसे बदलने वाली है बिहार की सूरत…

 

 

बिहार में भारत का सबसे बड़ा स्वर्ण भंडार मिला है। यहां न जाने कितनी शताब्दियों से देश का सबसे बड़ा स्वर्ण भंडार छिपा हुआ है। इस खदान में इतना सोना है, जितना देश में कहीं और नहीं है। लोकसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान इस बात का खुलासा किया गया है कि बिहार में अकेले पूरे देश का 44 प्रतिशत सोना है।
केंद्रीय खनन मंत्री प्रहलाद जोशी ने खुद इस बात पर मुहर लगाई है। केंद्रीय मंत्री ने बताया कि देश में कुल 501.83 टन का प्राथमिक स्वर्ण अयस्क भंडार है, जिसमें 654.74 टन स्वर्ण धातु है। इसमें 44 फीसद सोना अकेले बिहार में ही पाया गया है।

 

 

बिहार के जमुई जिले के सोनो क्षेत्र में 37.6 टन धातु अयस्क सहित 222.885 मिलियन टन स्वर्ण धातु से संपन्न भंडार मिला है। ऐसे में इस बात पर मुहर लग जाने के बाद इस इलाके के लोगों का खुश होना तो लाजिमी है। स्थानीय लोगों में उम्मीद जगी है कि अब सिर्फ यहां के लोगों की ही नहीं बल्कि पूरे बिहार की सूरत बदल जाएगी।

 

 

जमुई जिले का सोनो क्षेत्र दशकों से स्वर्ण भंडार को लेकर चर्चा में रहा है। यहां के लोगों के मुताबिक बहुत पहले से यहां की मिट्टी में सोने के छोटे-छोटे टुकड़े पाए जाते थे। बहुत पहले लोग करमटीया इलाके के मिट्टी को पानी में धुलकर और छानकर सोना निकाल लेते थे। अब इतने बड़े सोने की खदान मिलने की खबर से यहां के लोग ख़ुशी से झूम रहे हैं।

 

 

जानकारी के मुताबिक बिहार के जमुई जिले में सोनो क्षेत्र के अलावा अन्य इलाकों में भी कई तरह के खनिज अयस्क पाए पाए जाते हैं। इसमें अभ्रक के अलावा गोमेद समेत कई कीमती पत्थर भी शामिल हैं। ऐसे में अब संभावनाएं भी दिख रही हैं कि यहां जल्द सोने का खनन शुरू हो सकता है।

%d bloggers like this: