बुधवार, दिसम्बर 8

रेलवे और विमान टिकटों के लिए नया गाइडलाइन जा’री, 3 मई से पहले वाले यात्रियों की जेब होगी ढीली

संकट की इस घड़ी में भी इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कार्पोरेशन (आइआरसीटीसी) ने टिकट कैंसिलेशन के नाम पर सुविधा शुल्क लेने की तैयारी कर ली है। स्लीपर टिकट पर 15 तथा एसी टिकट पर 30 रुपये कट जाएंगे। ऐसे में 15 अप्रैल से तीन मई तक इंटरनेट से टिकट बुक करने वाले पूर्वोत्तर रेलवे के ही लगभग ढाई लाख लोगों की जेब ढीली हो जाएगी।

71 हजार लोगों ने कैंसिल कराया टिकट

15 अप्रैल से तीन मई तक पूर्वोत्तर रेलवे के विभिन्न स्टेशनों से स्लीपर और एसी क्लास में करीब चार लाख चालीस हजार यात्रियों के टिकट बुक हुए हैं। इनमें करीब 71 हजार लोग 15 अप्रैल तक टिकट कैंसिल करा चुके हैं। लगभग तीन लाख 68 हजार लोगों का टिकट कैंसिल होना है। इनमें रेलवे के काउंटरों से टिकट लेने वाले तीस फीसद यात्रियों का तो पूरा किराया वापस हो जाएगा। 70 फीसद ऐसे यात्री जिन्होंने इंटरनेट से टिकट बुक किया है, उन्हें आइआरसीटीसी को सुविधाशुल्क देना ही पड़ेगा। यह तब है जब रेलवे ने लॉकडाउन में ट्रेनों के निरस्त होने पर भी इंटरनेट से टिकट बुकिंग की सुविधा खुद उपलब्ध कराई थी। नियमानुसार किराए में कटौती की जाएगी। टिकट वापसी की प्रक्रिया के तहत किराया सीधे बैंक एकाउंट में जायेगा। – अश्विनी श्रीवास्तव, मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक, आइआरसीटीसी

 

अगले आदेश तक नहीं होगी किसी भी तरह के आरक्षित टिकटों की बुकिंग

लॉकडाउन के साथ ही रेलवे बोर्ड ने तीन मई तक यात्री ट्रेन सेवाओं का निरस्तीकरण भी बढ़ा दिया है। पूर्वोत्तर रेलवे की एक्सप्रेस, पैसेंजर, डेमू और मेमू ट्रेनों का संचलन पूरी तरह बंद रहेगा। 15 अप्रैल से तीन मई तक निरस्त ट्रेनों के बुक आरक्षित टिकट कैंसिल होंगे। कैंसिल टिकटों का पूरा किराया वापस होगा।

 

खाते में ही वापस होंगे रुपये

रेलवे के काउंटरों से लिए गए आरक्षित टिकट लॉकडाउन के बाद तीन माह के अंदर कभी भी कैंसिल हो जाएंगे। ई टिकट अपने आप निरस्त होंगे। ई-टिकटों का किराया संबंधित खाते में ही वापस होगा। मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह के अनुसार अगले आदेश तक किसी भी तरह के टिकटों की बुकिंग नहीं होगी। स्टेशनों के समस्त काउंटर अगली सूचना तक बंद रहेंगे। जो ट्रेनें निरस्त नहीं हैं, यानी तीन मई के बाद भी अगर कोई यात्री अपना टिकट निरस्त कराना चाहता है तो उसका भी पूरा किराया वापस होगा। सीपीआरओ के अनुसार देश के एक से दूसरे छोर तक खाद्यान्न व अन्य आवश्यक सामग्री पहुंचाने के लिए मालगाडिय़ों व पार्सल स्पेशल ट्रेनों का संचलन जारी रहेगा।

 

 

लॉकडाउन बढऩे के बाद एयरपोर्ट अथॉरिटी ने घरेलू उड़ान सेवा को तीन मई तक के लिए स्थगित कर दिया है। 15 अप्रैल के बाद गोरखपुर से दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, हैदराबाद और प्रयागराज के लिए टिकट बुक कराने वाले लोग निराश हुए हैं। एयरलाइंस ने यात्रियों को टिकट की तिथि को बदलने और रिफंड लेने का विकल्प दिया है।

20 अप्रैल तक फुल थीं सभी फ्लाइटें

Lock.down के कारण 24 मार्च से हवाई सेवा बंद है। 15 अप्रैल को लॉकडाउन खुलने की उम्मीद में लोगों ने टिकट बुक करा लिया था। अब यात्री तीन मई के बाद की योजना बनाने में जुट गए हैं। गोरखपुर से दिल्ली के लिए तीन, मुंबई, कोलकाता, हैदराबाद व प्रयागराज के लिए एक-एक फ्लाइटें हैं। रोजाना करीब 1800 यात्री एयरपोर्ट से आते-जाते हैं। एयरपोर्ट निदेशक अनिल द्विवेदी ने बताया कि 20 अप्रैल तक गोरखपुर आने और यहां से जाने वाली सभी फ्लाइटें फुल थीं।

 

इमरजेंसी सेवा के लिए 24 घंटे तैयार रहेगा स्टाफ

एयरपोर्ट निदेशक ने बताया कि Lockdown में भी इमरजें’सी सेवा के लिए सुरक्षाकर्मी और एयरपोर्ट कर्मचारी 24 घंटे अल’र्ट पर है। जरूरत पडऩे पर आधे घंटे के भीतर एयरपोर्ट पहुंच जाएंगे।

लेकिन ट्रेन यात्रियों को नुकसान

हवाई यात्रियों को कुछ राहत मिली है लेकिन ट्रेन के यात्रियों को इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कार्पोरेशन (IRCTC) टिकट कैंसिलेशन के नाम परस्लीपर टिकट पर 15 तथा एसी टिकट पर 30 रुपये काटने की तैयारी कर रहा है। 15 अप्रैल से तीन मई तक पूर्वोत्तर रेलवे के विभिन्न स्टेशनों से स्लीपर और एसी क्लास में करीब चार लाख चालीस हजार यात्रियों के टिकट बुक हुए हैं। इनमें करीब 71 हजार लोग 15 अप्रैल तक टिकट कैंसिल करा चुके हैं। 70 फीसद ऐसे यात्री हैं जिन्होंने इंटरनेट से टिकट बुक किया है। इस यात्रियों को आइआरसीटीसी को सुविधाशुल्क देना पड़ेगा। टिकट काउंटरों से टिकट लेने लोगों को पूरा रिफंड मिलेगा।