बुधवार, दिसम्बर 8

रांची में अभी अभी 4 नर्स, गार्ड, सफाईकर्मी और ड्राइवर मिले कोरोना पॉजिटिव, शासन-प्रशासन सकते में

झारखंड में रविवार को फिर कोरोना के 16 मरीज मिले हैं। संक्रमण के बढ़ते दायरे के बीच यहां लगातार मरीजों का मिलना जारी है। ताजा मामला राजधानी रांची का है, जहां आज दिनभर में 13 कोरोना संक्रमितों की पहचान की गई है। जबकि 2 मरीज गढ़वा के रहने वाले हैं। एक कोरोना संक्रमित मरीज जामताड़ा में मिला है। इन संक्रमित मरीजों में सदर अस्‍पताल की 4 नर्स भी शामिल हैं। जबकि स्‍वास्‍थ्‍य विभाग का एक ड्राइवर, एक होमगार्ड और एक सफाईकर्मी भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। एक साथ 7 कोरोना वारियर्स के कोरोना पॉजिटिव मिलने से शासन-प्रशासन सकते में आ गया है। 4 नर्सों के एक साथ कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद नीचे से ऊपर तक शासन-प्रशासन में खलबली मच गई है।

रांची के हॉट स्‍पॉट हिंदपीढ़ी इलाके में ड्यूटी करने वाले दो कोरोना वारियर्स के संक्रमित होने के बाद रांची में कोरोना के मामले और बढ़ने की संभावना है। जबकि सदर अस्‍पताल की 4 नर्स के कोरोना संक्रमित होने से अस्‍पताल के दूसरे स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों में भी कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। जाने-अनजाने इनके संपर्क में आए सिविल सर्जन, एसएसपी, डीसी तक को संक्रमण का खतरा बताया जा रहा है। हिंदपीढ़ी इलाके में गुरुनानक स्‍कूल का राहत केंद्र भी पूरी तरह कोरोना संक्रमण की चपेट में है।

बताया गया है कि नर्स, होमगार्ड, चालक और सफाईकर्मी के संपर्क में आने वाले कई बड़े अफसरों को अब क्‍वारंटाइन होना होगा। रांची में एक साथ तीन कोरोना वारियर्स के पॉजिटिव पाए जाने के बाद राजधानी में कोरोना का खौफ बढ़ गया है। रिम्‍स के गाइनी ओटी में पहले कोरोना संक्रमित गर्भवती महिला का ऑपरेशन, सदर अस्‍पताल में कोरोना संक्रमित महिला का ऑपरेशन करने के बाद बड़े स्‍तर पर कोरोना संक्रमण के फैलाव की आशंका जताई जा रही थी। और अब ताजा मामलों में रांची के गुरुनानक स्‍कूल राहत केंद्र से जुड़े सफाईकर्मी और चालक के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद सबकी सांसें फूल गई हैं।

रांची में डीसी, एसएसपी सहित दो दर्जन पदाधिकारियों को होना पड़ेगा क्वारंटाइन

रांची में डीसी, एसएसपी, डीडीसी और एसडीओ सहित दो दर्जन से अधिक पदाधिकारियों को अब क्वारंटाइन होना पड़ेगा। रविवार को सामने आए कोरोना के दो मरीज गुरुनानक स्कूल में बने कमांडिंग कंट्रोल रूम परिसर से जुड़े हुए हैं जहां ये अपनी सेवा दे रहे थे। एक यहां का सफाई कर्मी है जबकि दूसरा 108 एंबुलेंस का चालक। कोरोना से लडऩे के लिए बनाया गया यह कमांडिंग कंट्रोल रूम हिंदपीढ़ी से एकदम सटा हुआ है।

सभी पदाधिकारी कोरोना पॉजिटिव मरीज के संपर्क में

गुरुनानक स्कूल स्थित कमांडिंग कंट्रोल रूम में 100 की संख्या में पदाधिकारी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर कोरोना संक्रमित मरीज के संपर्क में आए हैं। दो दर्जन पदाधिकारियों के अलावा कई कर्मचारी, 40 से अधिक पुलिस बल के जवान और हिंदपीढ़ी में लोगोंं के घरों तक मुख्यमंत्री आहार सेवा व अनाज पहुंचाने में लगे चालक और उसके खलासी भी शामिल हैं।

रिपोर्ट देर से जारी करना पड़ रहा महंगा

रिम्स द्वारा सैंपल लेने के चार से पांच दिन बाद रिपोर्ट जारी करना अब महंगा पड़ रहा है। रिम्स में 1000 के करीब सैंपल पेंडिंग है। रविवार को जो मामले सामने आए उनमें कुछ मरीजों के सैंपल 20 अप्रैल का है तो कुछ के 22 और 23 अप्रैल को लिए गए थे। संदिग्ध सैंपल तो दे देते लेकिन वे क्वारंटाइन के गाइडलाइन का पालन नहीं करते हैं। चूंकि ज्यादातर में लक्षण भी नहीं मिलते तो संक्रमण फैलने का खतरा पूरी तरह बढ़ जाता है।