सोमवार, नवम्बर 29

राँची में मामी का अपने ही दामाद से अवैध संबंध बच्ची ने देखा तो उतार दिया मौत के घाट

रांची की डोरंडा पुलिस ने घटना के सात साल बाद बहुचर्चित नन्ही परी हत्याकांड का खुलासा कर लिया और दो आरोपितों को सोमवार को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। जेल जाने वालों में बच्ची की मंझली मामी शहजादी खातुन व शहजादी की बहन का दामाद मोहम्मद शाहिद अख्तर शामिल हैं। हत्या के पीछे शहजादी का मोहम्मद शाहिद से अवैध संबंध का मामला सामने आया है। बच्ची ने दोनों को संबंध बनाने देख लिया था। दोनों का भेद न खुल जाये, इसके चलते ही शहजादी के कहने पर शाहिद ने बच्ची की हत्या कर दी थी और रात के अंधेरे में बच्ची के घर के पास स्थित एक निर्माणाधीन मकान में शव को फेंक दिया था।

रांची पुलिस आरोपितों की ब्रेन मैपिंग, वैज्ञानिक अनुसंधान व मोबाइल लोकेशन के आधार पर ही उन्हें गिरफ्तार की, जिसके बाद यह कहानी सामने आई। पुलिस ने दोनों ही आरोपितों शहजादी खातुन व मोहम्मद शाहिद अख्तर को सोमवार को न्यायिक दंडाधिकारी परमानंद उपाध्याय की अदालत में प्रस्तुत किया। यहां से दोनों को 14 दिन के न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है। दोनों डोरंडा के दर्जी मोहल्ले के रहने वाले हैं। अब तक की पूछताछ में यह खुलासा हुआ है कि शहजादी और शाहिद के बीच नाजायज संबंध था। 23 अप्रैल 2013 को जिस कमरे में दोनों संबंध बना रहे थे, उसी बीच बच्ची पहुंच गई। बच्ची ने दोनों को आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था। इसके बाद दोनों डर गए कि कहीं उनका भेद न खुल जाये।

शहजादी के ही कहने पर शाहीद ने बच्ची को पकड़ लिया और उसकी हत्या कर दी। 23 अप्रैल 2013 की रात के अंधेरे में शहजादी के घर से ही शव को लेकर दोनों बच्ची के घर के सामने निर्माणाधीन मकान में पहुंचे और शव फेंककर चले गए। दूसरे दिन यानी 24 अप्रैल को पुलिस व परिजन ने बच्ची का शव बरामद किया था। तब यह बात सामने आई थी कि बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या की गई थी। अब पुलिस इस बिंदु पर भी दोनों से पूछताछ करेगी। इसके लिए दोनों आरोपित रिमांड पर लिए जाएंगे। पुलिस ने दोनों ही आरोपितों के नार्को टेस्ट के लिए एक जनवरी 2019 को अदालत में आवेदन दिया था। एक जून को अदालत से अनुमति के बाद गुजरात में दोनों का ब्रेन मैपिंग हुआ। इसमें टेस्ट पॉजिटिव निकला। वहां से इंडिकेशन मिलने के बाद दोनों को गिरफ्तार किया गया। वहीं जांच के खुलासे में मोबाइल लोकेशन भी मददगार साबित हुआ।

छह साल ही मासूम बच्ची 23 अप्रैल 2013 को खेलने के क्रम में लापता हो गई थी। दूसरे दिन यानी 24 अप्रैल 2013 को उसकी लाश उसके घर के सामने स्थित निर्माणाधीन मकान में मिली थी। उसके हाथ, चेहरे, कान और शरीर पर गहरे चोट के निशान भी मिले थे। दुष्कर्म व हत्या के मामले में डोरंडा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। इसमें प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रोम सेक्सुअल अफेंसेज (पोक्सो) एक्ट भी जोड़ा गया था। घटना के बाद डॉग स्क्वायड, एफएसएल की मदद भी ली गई थी। इस मामले में पुलिस ने शक के आधार पर कुरैशी मोहल्ला निवासी सद्दाम कुरैशी को जेल भेजा था। बाद में वह जमानत पर छूट गया था। इस मामले में हाई कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लेकर कार्रवाई का आदेश दिया था। इस आदेश के बाद ही कांड के अनुसंधान की जिम्मेदारी सिटी एसपी को दी गई थी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *