सोमवार, नवम्बर 29

यूपी : 127 साल पुराना रेलवे लाइन आ’ख़री बार दौड़ी ट्रेन, हुआ हमेशा के लिए बंद, नारेबा’जी और प्र’दर्शन

जंगल के ‘कुशल मंगल’ की खातिर 127 साल पुराने मैलानी-नानपारा रेलवे ट्रैक के मध्य मीटरगेज का रेल यातायात शनिवार को बं’द कर दिया गया है। मैलानी से दुधवा जगंल के बीच से होकर बहराइच के लिए रवाना हुई ट्रेन सं. 52252 अप को लोको पायलट मनीष कुमार सहायक लोको पायलट अनुराग राव और गार्ड रमन कुमार पाठक सुबह 8.40 बजे ट्रेन लेकर रवाना हुए। इस मौके पर कैरिज विभाग के कर्मचारियों ने ट्रेन को दुल्हन की तरह सजाया था।

ट्रेन को विदाई देने के लिए स्टेशन अधीक्षक राजेश गुप्ता, यातायात निरीक्षक, क्रू नियंत्रक सहित रेलवे के कई अधिकारी मौजूद थे। रेलवे प्रशासन की ओर से मीटरगेज ट्रेन की यादों को सहजने के लिए दिल्ली से आई टीम ने डाक्युमेंट्री फिल्म के लिए मैलानी-भीरा स्टेशन के मध्य शूङ्क्षटग भी की। मीटर गेज पर अंतिम सफर करने के 65 लोगों ने टिकट लिए और काफी संख्या में लोग ट्रेन का दीदार करने आये। खासतौर पर पलिया, भीरा में पढऩे वाले छात्र-छात्राओ में इस ट्रेन को लेकर काफी दिलचस्पी भी देखने को मिली। उन्हे म’लाल था कि अब वे इस रेलमार्ग पर यात्रा नहीं कर पाएंगे।

कभी पूर्वांचल को मैलानी क्षेत्र से जोडऩे वाले इस रेलमार्ग को इतनी जल्द बं’द कर दिया जाएगा, आ’भास तक नही था। रेलवे कर्मचारियों के चेहरे पर भी मायूसी देखने को मिली, क्योंकि कई दशकों पुराना नाता इस रेलमार्ग से था। अब आपने वाले समय में न्यायालय ही तय करेगा कि इस मार्ग पर ट्रेनों का संचालन होगा कि नहीं। उच्च न्यायालय लखनऊ में कई जनहित याचिकाओं पर सुनवाई के बाद ही मैलानी-बहराइच रेलमार्ग का भविष्य तय होगा।

मैलानी-नानपारा रेलमार्ग बंद होने के बाद पलिया, बेलरायां, तिकुनिया के व्यापारियों को खासा नु’कसान होने वाला है। इसके अलावा मैलानी कस्बे का व्यापार भी खास प्रभावित होगा। इन सभी जगहों के व्यापारी इस ट्रेन के बंद होने का खासा वि’रोध कर रहे हैं। बाजार बंद से लेकर ना’रेबा’जी और प्र’दर्शन तक कर चुके व्यापारियों को अब तक कोई रा’हत नहीं मिली है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *