गोरखपुर,( कुलसम फात्मा )  गोरखपुर में ऑक्सीजन की कमी नहीं है यहां पर 3 इकाइयों में ऑक्सीजन के उत्पाद से आवश्यकता पूरी हुई जा रही है खुद के साथ लखनऊ फैजाबाद, वाराणसी तथा प्रयागराज को ऑक्सीजन की सप्लाई कर रहा है। उत्पादन बढ़ाने के लिए बहुत जल्द गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण में कई वर्षों से बंद पड़ी ऑक्सीजन की फैक्ट्री को चलाने पर प्रेशर दिया जा रहा है। फैक्ट्री मालिक ने फैक्ट्री चलाने में रुचि नहीं दिखाई तो जिला प्रशासन इसका अधिग्रहण कर अपने लेवर से इसमें उत्पादन प्रारंभ करना प्रारंभ कर देंगा

 

 

 

गोरखपुर गीडा में मोदी केमिकल की दो फैक्ट्रियों में प्रतिदिन तकरीबन 16 सौ मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर का उत्पाद हो रहा है। बाकी फैक्ट्री ऑक्सीजन में तकरीबन 1000 सिलेंडर का उत्पाद हर दिन होता है। गोरखपुर में ऑक्सीजन की जितनी आवश्यकता है, उससे कहीं ज्यादा उत्पाद किया जा रहा है। लखनऊ वाराणसी प्रयागराज से अधिक ऑक्सीजन की मांग आ रही है। वहां के कई हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की व्यवस्था नहीं है जिससे इन सिटी के अस्पताल गोरखपुर से ऑक्सीजन की मांग करने पर रविवार के दिन लखनऊ और फैजाबाद को ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति की गई तथा वाराणसी और प्रयागराज को भी ऑक्सीजन देने की तैयारी चल रही है।

 

 

फैक्ट्री को टेकओवर कर प्रशासन करेगा उत्पादन


गीडा में अन्नपूर्णा गैस नाम की इकाई से पूर्व ऑक्सीजन का उत्पादन होता था। परंतु पिछले कुछ सालों से यह इकाई बंद है। बिजली का बिल भी इस पर बकाया है। कोरोना संक्रमण के फर्स्ट स्टेज में इस इकाई को चलाने की पहल की गई थी। परंतु फैक्ट्री मालिक इसके लिए तैयार ना हुए इस बाबत प्रशासन तथा सीईओ इस फैक्ट्री को चलाने की कोशिश में लगे हुए हैं। यदि फैक्ट्री मालिक उपर्युक्त फैक्ट्री को चलाने में रुचि नहीं दिखाता है तो जिलाधिकारी अपने पावर का इस्तेमाल कर फैक्ट्री को टेकओवर कर लेंगे, जिसके बाद प्रशासन अपने लेवल से इसमें उत्पाद शुरू करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.