आयकरदाताओं के लिए एक चिंताजनक खबर है, दरअसल आयकर विवरणी के सत्यापन के समय में कुछ बदलाव किए गए हैं। विस्तार पूर्वक बताएं तो केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने आयकर विवरणी के सत्यापन के नियमों में बदलाव कर इसकी समय सीमा को कम कर दिया है। बताया जा रहा है कि आयकर दाताओं को नए नियमों को लेकर अधिक सतर्क रहना होगा । सुनने में आ रहा है कि निर्धारित समय पर सत्यापन ना करने से आयकर दाताओं की परेशानी भी बढ़ सकती है।

 

# समय सीमा में आई कमी___

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आयकर विवरणी का सत्यापन आधार कार्ड से लिंक किए गए मोबाइल नंबर पर आए ओटीपी के जरिए होता था। अब तक रिटर्न फाइल करने के लिए 120 दिनों तक ओटीपी का सत्यापन करने का समय मिलता था। जिसके कारण अगर आयकर दाता ने रिटर्न फाइल करने के 120 दिन बाद ओटीपी का सत्यापन किया हो, तो भी सत्यापन उसी दिन दर्ज होता था जिस दिन आयकर दाता ने रिटर्न फाइल किया हो। लेकिन अब नई व्यवस्था के तहत 120 दिनों के समय को घटाकर 30 दिन कर दिया गया है, यानी कि अब अगर आयकर दाता के रिटर्न फाइल करने के 30 दिन के बाद ओटीपी का सत्यापन होता है, तो सत्यापन की तिथि 30 दिन के बाद की ही दर्ज की जाएगी। यह जानकारी खुद सी ए आशीष अग्रवाल ने दी उन्होंने यह भी कहा कि अब आयकर दाताओं को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है।

 

# भौतिक सत्यापन के कागजात, स्पीड पोस्ट से भेजना हुआ अनिवार्य।

बताया जा रहा है कि आयकर विभाग द्वारा आयकर विवरणी के सत्यापन के नियमों में एक और बदलाव किया गया है। वैसे आयकरदाता जिनका मोबाइल नंबर आधार से जुड़ा हुआ नहीं है, उन्हें रिटर्न की कापी यानी आइटीआर-बी के भौतिक सत्यापन के लिए कागज पर हस्ताक्षर कर स्पीड पोस्ट से विभाग को भेजना अनिवार्य होगा । वर्तमान स्थिति की बात करें तो भौतिक सत्यापन के कागजात साधारण डाक से भी भेजे जा सकते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.