शुक्रवार, दिसम्बर 3

भारतीय रेलवे चुनिंदा रूटों पर चलाएगी स्पेशल ट्रेने, यात्रा करने के लिए इन नियमो का करना होगा पालन

रेल मंत्रालय ने लॉकडाउन खुलने की स्थिति में ट्रेन संचालन के तौर-तरीकों पर मंथन शुरू कर दिया है। इस संबंध में रेलवे बोर्ड अध्यक्ष विनोद कुमार यादन ने सभी जोनल महाप्रबंधकों के साथ वीडियो कांफ्रेंस पर चर्चा कर सुझाव देने और प्लान तैयार करने को कहा है। हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया कि जब तक सरकार लॉकडाउन के बारे में फैसला नहीं करती और रेलवे बोर्ड द्वारा आदेश जारी नहीं कर दिए जाते, किसी भी हालत में ट्रेन संचालन की तारीख के बारे में कयास नहीं लगाए जाने चाहिए। क्योंकि इससे लोगों के बीच भ्रम और अफ’रात’फरी की स्थिति पैदा हो सकती है।

 

 

रेड, येलो और ग्रीन जोन में विभाजित करने पर विचार

सूत्रों के अनुसार कांफ्रेंस के दौरान रेलवे बोर्ड अध्यक्ष ने कहा कि सरकार सं’क्रमण मामलों के हिसाब से देश को तीन परिक्षेत्रों-रेड, येलो और ग्रीन जोन में विभाजित करने पर विचार कर रही है। रेड जोन में कोई भी ट्रेन नहीं चलाई जाएगी। येलो जोन में सीमित संख्या में ट्रेने चलेंगी। जबकि ग्रीन जोन में पूरी तरह ट्रेन यातायात खोल दिया जाएगा। लेकिन चलने वाली सभी ट्रेनो में कुछ नियमों का स’ख्ती से पालन किया जाएगा।

 

टाइम टेबल पर आधारित कोई सामान्य ट्रेन नहीं चलेगी

टाइम टेबल पर आधारित कोई सामान्य ट्रेन नहीं चलेगी। केवल स्पेशल स्लीपर और थर्ड एसी ट्रेने चलेंगी। जिनमें आरक्षण जरूरी होगा। उनमें भी सोशल डिस्टैंसिंग के तहत यात्रियों के बीच दूरी सुनिश्चित करने के लिए किसी भी यात्री को मिडिल बर्थ अलाट नहीं की जाएगी। संक्त्रमण कम होने तक ट्रेनों में चादर-कंबल तकिया तथा खाने की आपूर्ति नहीं होगी।

 

 

 

जानें- यात्रियों के लिए क्या होगा नियम

स्पेशल ट्रेनो में प्रवेश से पूर्व स्टेशन के एंट्री प्वाइंट पर सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। साठ वर्ष से अधिक उम्र के यात्रियों को यात्रा की अनुमति नहीं होगी। सभी यात्रियों के लिए मास्क पहनना जरूरी होगा। जिनके पास मास्क नहीं होंगे उन्हें प्रवेश द्वार पर ही मास्क दिए जाएंगे। बिना मास्क यात्रा करते पकड़े जाने पर भारी जुर्माना लगाया जाएगा। बिना रिजर्वेशन के किसी को यात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी। रिजर्वेशन इसलिए जरूरी होगा ताकि यात्रा के बाद किसी के कोरोना संक्रमित पाए जाने की स्थिति में साथ में सफर करने वाले यात्रियों को खोज कर उन्हें क्वारंटाइन किया जा सके।

 

कोरोना हॉट स्पॉट के तौर पर चिह्नित स्टेशनों पर नहीं रुकेगी ट्रेन

सूत्रों के मुताबिक वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान ये बात उभर कर सामने आई कि मौजूदा रुख को देखते हुए संभवत: कोलकाता को छोड़कर ज्यादातर मेट्रो शहर रेड जोन में आ सकते हैं। ऐसे में दिल्ली, मुंबई, सिकंदराबाद, चेन्नई और बंगलूर के बीच ट्रेन सेवाएं चलाना शायद संभव न हो। लिहाजा इन शहरों के बीच कम से कम 30 अप्रैल तक कोई यात्री ट्रेन सेवा न चलाना ही बेहतर रहेगा। इस संदर्भ में इस तथ्य पर भी गौर किया गया कि कई केस ऐसे सामने आए हैं जिनमें व्यक्ति में शुरुआत में कोई लक्षण नहीं प्र’कट हुए, परंतु बाद में गंभीर स्थिति पैदा हो गई। चर्चा के दौरान एक सुझाव ये भी आया कि किसी भी ट्रेन को कोरोना हॉट स्पॉट के तौर पर चिह्नित स्टेशनों पर नहीं रोका जाना चाहिए।

 

 

ट्रेनों को दूसरे राज्यों में प्रवेश की अनुमति नहीं

रेलवे बोर्ड अध्यक्ष ने सभी महाप्रबंधकों से राज्य सरकारों से लगातार संपर्क में रहने तथा ट्रेन की मांग अथवा अनिच्छा के बारे में पता करने की सलाह दी। एक जोनल महाप्रबंधक का सुझाव था कि जो ट्रेने जहां से चलें उन्हें उस राज्य की सीमा के भीतर तक ही चलाया जाना चाहिए। दूसरे राज्यों में प्रवेश की अनुमति नही दी जानी चाहिए।