सोमवार, नवम्बर 29

भारतीय मौसम विभाग द्वारा अलर्ट जारी, तेज आंधी तूफ़ान के बाद पड़ेंगे ओले बाहर निकलने से पहले सावधान

भारत में मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी के दक्षिण पूर्वी क्षेत्र और उससे सटे दक्षिण अंडमान सागर पर आज सुबह निम्न दबाव क्षेत्र बना हुआ है। अनुमान है कि 16 मई शाम तक चक्रवाती तूफान तैयार हो सकता है. भारत में मौसम में लगातार बदलाव देखे जा रहे हैं पिछले दो-तीन दिन में कई राज्यों में धूल भरी हवाएं और तेज आंधी चल रही है . भारतीय मौसम विज्ञान के अनुसार उत्तर भारत के कई शहरों में आज मौसम करवट ले सकती है इस दौरान करीब 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी इसके साथ हल्की बारिश भी हो सकती है।

बिहार में कई जिलों में मौसम विभाग ने गुरुवार को कई जिलों में तेज आंधी तूफान के साथ बारिश होने की सूचना जारी की थी इसको लेकर मौसम विभाग ने अलर्ट भी जारी किया था जिसमें बिहार के 4 जिलों का नाम जारी किया गया था उन जिलों के नाम सारण सिवान रोहतास और पटना है. इन जिलों में ओलावृष्टि की भी संभावना जताई गई थी. जानकारी के मुताबिक बिहार के पटना और मुजफ्फरपुर जिले में गुरुवार को दोपहर के बाद अचानक मौसम ने करवट ली मुजफ्फरपुर में बादल देखने को मिले तो वहीं पटना में तेज बारिश हुई और कहीं-कहीं ओले भी पड़े. मौसम विभाग के अनुसार बिहार के ज्यादातर हिस्सों में मौसम अच्छे रहेंगे वहीं कुछ जिलों में शुक्रवार को यानी आज तेज आंधी तूफान की आशंका है जिन जिलों में तेज आंधी तूफान आने की आशंका है वह जिले सुपौल अररिया मधेपुरा किशनगंज सहरसा एवं पूर्णिया है।

भारत के कई राज्यों में मौसम विभाग के द्वारा ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है उन जिलों के नाम निम्न है, मौसम विभाग ने बताया कि इस वक्त उत्तर भारत में पश्चिमी विक्षोभ अभी सक्रिय तो इसका असर पर्वतीय इलाकों जम्मू-कश्मीर हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के साथ-साथ पंजाब-हरियाणा उत्तरी राजस्थान एवं उत्तर प्रदेश के पश्चिमी क्षेत्रों में देखने को मिल सकता है. हम आपको बता दें कि ऑरेंज अलर्ट का मतलब है मौसम खराब होने की चेतावनी इस दौरान लोगों को बाहर निकलने पर सावधानी बरतने को कहा गया है।

मौसम विभाग के अनुसार देश में मानसूनी हवाएं अगले शनिवार को अंडमान निकोबार में प्रवेश कर सकते हैं भारत में महाराष्ट्र गुजरात मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ तेलंगाना आंध्र प्रदेश उड़ीसा झारखंड बिहार और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में मानसून आने में 3 से 7 दिन की देरी हो सकती है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *