बुधवार, दिसम्बर 8

भागलपुर स्टेशन का एयरपोर्ट के तर्ज पे विकाश, अब यहां उतरते ही खिल जायेगा आपका चेहरा ऐसा लुक

एक दिवसीय दौर पर पहुंचे पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक सुनीत शर्मा का यात्री सुविधा में बढ़ोत्तरी पर विशेष ध्यान है। जीएम की डेवलपमेंट सूची की डायरी में भागलपुर स्टेशन का नाम शीर्ष पर है। आने वाले दिनों में जंक्शन एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं भागलपुर जंक्शन पर होगी। दैनिक जागरण से हुई खास बातचीत में जीएम ने कहा कि भागलपुर में विकास के कई काम होने हैं। वर्टिकल गार्डन तो एक कड़ी है। स्मार्ट सिटी का यह स्टेशन पूरी तरह स्मार्ट होगा। जीएम ने कहा कि भागलपुर मैं पहली बार आया हूं। यात्रियों के मायने में यह स्टेशन काफी अव्वल है। जीएम ने कहा कि स्टेशन परिसर में दो एस्केलेटर लगेंगे।

इससे एक नंबर से दूसरे प्लेटफॉर्म पर आना-जाना आसान होगा। मल्टी सिटी कांप्लेक्स, दक्षिण प्रवेश द्वार बनने से यात्रियों को काफी सहूलियत होगी। यात्रियों को भी जागरूक होने की जरूरत है। स्टेशन पर गंदगी न फैलाएं। स्वच्छता में पूरी भागीदारी दें। जीएम ने कहा कि पर्यावरण पर विशेष ध्यान है। पर्यावरण को देखते हुए ही स्टेशन को विकसित करने का काम चल रहा है। हमारा उद्देश्य है कि यात्री स्टेशन पर पहुंचते तो लगे कि यह रेलवे स्टेशन नहीं किसी एयरपोर्ट पर आए हों। जीएम ने डीआरएम यतेंद्र कुमार और उनकी टीम की प्रशंसा की।

जमालपुर में नए रेल सुरंग का निर्माण चार महीने में पूरा हो जाएगा। साहिबगंज-भागलपुर के बीच विद्युतीकरण का काम काफी तेजी से चल रहा है। जुलाई तक सभी काम पूरे हो जाएंगे। इसके बाद नई ट्रेनें के साथ-साथ और गाडिय़ों की रफ्तार बढ़ेगी। चैंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष अशोक भिवानीवाला, अभिषेक जैन, श्रवण बाजोरिया, पूर्व रेलवे मेंस कांग्रेस के अध्यक्ष अरिजित विश्ववास, शाखा सचिव संजीव कुमार घोष, विक्रम सिंह जीएम से मिले। उन्हें स्वागत किया और मांग समर्थित ज्ञापन दिए। ईस्टर्न रेलवे मेंस यूनियन के शाखा सचिव आरके सिंह, संयुक्त सचिव चंदन कुमार, प्रबल कुमार, मनीष कुमार भी मिलकर मांग समर्थित ज्ञापन सौंपा। नागरिक सेवा समिति के रिजवान खान ने भी ट्रेन चलाने को लेकर मांग पत्र दिया।

जेडआरयूसी के सदस अभय वर्म्मन ने अंग वस्त्र देकर जीएम का अभिनंदन किया। जीएम के साथ पूर्व रेलवे के सभी अधिकारी और मंडल के अधिकारी थे। आरपीएफ डीआइजी अजय शादानी, सीनियर कमांडेंट फ्रांसिस लोबो थे। महाप्रबंधक का सैलून भागलपुर से खुलने के बाद सबौर स्टेशन पहुंची। यहां से निरीक्षण के बाद सभी अधिकारी साहिबगंज के लिए रवाना हुए। पीडब्ल्यूआइ ने कहा कि ट्रैक पूरी तरह 120 की रफ्तार के लिए फीट है। यह सुनने के बाद जीएम काफी खुश हुए और सभी को शाबाशी दी। इसके बाद जीएम स्पेशल 120 की रफ्तार से रेल पटरियों की जांच की।

जंक्शन की सूरत महज 71.82 लाख से बदल गई। स्टेशन पर वर्टिकल गार्डन और अन्य सुंदरीकरण का काम में इतने खर्च आए हैं। कल तक जहां कूड़ा-कचरा रहता था। वहां आज हरी घास और कई तरह के फूल दिख रहे हैं। जीएम ने लगातार रखरखाव की बात कही है। इसके अलावा 9.32 करोड़ से स्टेशन का विकास कार्य चल रहा है।

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *