बुधवार, दिसम्बर 8

भागलपुर में जा’री हुआ डीएम का आ’देश नहीं मानने वाले पर शक्त कार्यवाही का आ’देश

शहर के विकास के लिए जारी आ’देश-नि’र्देशों की क’ड़ी में एक बार फिर गुरुवार को डीएम ने ओवरलोड और खुले में बिक रही मां’स-मछली पर रो’क लगाने के आ’देश जा’री किए। डीएम ने एक ओर नगर आयुक्त को पहले के पत्र का ह’वाला देकर कार्रवाई का आ’देश दिया। दूसरी ओर डीएम ने जिला परिवहन पदाधिकारी अाैर खनिज विकास पदाधिकारी काे अाेवरलाेड पर कारर्वाई के लिए पत्र से नि’र्देश दिया है। इन आ’देश और नि’र्देशों के बीच सवाल खड़े हो रहे हैं कि आखिर पुराने आ’देशों पर कार्रवाई क्यों नहीं हो रही?


दरअसल, डीएम प्रणव कुमार ने खुले में मां’स-मछली पर बिक्री पर रो’क लगाने के लिए पौन चार माह पहले नगर आयुक्त को आ’देश दिया था। निगम ने तब माइकिंग कराई और कार्रवाई की खानापूर्ति कर ली। अब 31 जनवरी फिर से डीएम ने नगर अायुक्त काे पहले के पत्र का ह’वाला देकर का’र्रवाई का नि’र्देश दिया। डीएम का यह पत्र नगर निगम को एक फरवरी को मिला। चार फरवरी को नगर अायुक्त ने संबंधित शाखा काे पत्र भेज दिया। पांच फरवरी काे उप नगर आयुक्त सत्येंद्र प्रसाद वर्मा ने यह पत्र राेशनी शाखा प्रभारी काे कार्रवाई के लिए भेज दिया, लेकिन गुरुवार तक यह पत्र दफ्तरों में ही घूमता रहा। अब निगम दावा कर रहा है कि शुक्रवार से फिर से दुकानदारों के लिए माइकिंग होगी। नोटिस दिया जाएगा।


ओवरलाेडिंग व अ’वैध खनन पर कार्रवार्इ के लिए डीएम ने जिला परिवहन पदाधिकारी और खनिज विकास पदाधिकारी काे पत्र से नि’र्देश दिया है। उन्हाेंने कहा है कि एमएलसी मनाेज कुमार ने इस मुद्दे काे उठाया है। इसके बाद इस दिशा में अावश्यक कार्रवाई करने के लिए पुलिस महानिदेशक ने भी निर्देश दिया था। इसमें कहा गया था कि भागलपुर-हसडीहा राेड में राेज 4000 से 5000 भारी वाहनाें का अावागमन हाेता है। इसमें कई ओवरलाेड हाेते हैं। इसके चलने से सड़क टू’ट रही है और राजस्व की क्षति हाे रही है। इसलिए इस दिशा में नियमानुसार जांच कर आवश्यक कार्रवाई करने का नि’र्देश डीएम ने डीटीओ व खनिज विकास पदाधिकारी काे दिया है।
कराएंगे माइकिंग, नहीं सु’धरे तो होगी कार्रवाई।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *