चलती ट्रेन में बच्चों के जन्म लेने की बात तो सुनी होगी। पर, जन्म के बाद बच्ची का नाम ट्रेन से मिलता-जुलता रखा जाए यह नई बात है। ऐसा ही मामला सोमवार को सामने आया। आनंद विहार टर्मिनल से भागलपुर आ रही विक्रमशिला एक्सप्रेस के साधारण कोच में एक महिला ने नन्हीं परी को जन्म दिया, जिसके बाद माता-पिता ने बच्ची का नाम शीला रख दिया। उनका कहना था कि जब भी बच्ची का नाम लेंगे तो विक्रमशिला का नाम और वह सफर हमेशा याद आएगा।

 

 

पांच जून को पटना जिले के फतुहा की सुनीता देवी आनंद विहार टर्मिनल पर विक्रमशिला एक्सप्रेस पर सवार हुई थीं। साथ में पति भी थे। दोनों कोच संख्या डी-2 में सफर कर रहे थे। पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन से ट्रेन जैसे ही खुली, महिला को प्रसव पीड़ा शुरू हो गई

 

 

टीटीई ने दिखाई मानवता, कोच में कराया प्रसव : प्रसव पीड़ा की जानकारी मिलने पर टीटीई एके चौरसिया और रवि कुमार ने मानवता का परिचय देते हुए तत्काल मेडिकल टीम को सूचना दी। इसके बाद कोच में सफर कर रहीं दूसरी महिलाओं को बुलाया और प्रसव करवाया। सुरक्षित प्रसव के बीच ट्रेन को बक्सर स्टेशन पर रोका गया। वहां मेडिकल टीम पहुंची और बच्ची को टेटवेक का टीका लगाया।

 

जच्चा और बच्चा के स्वास्थ की जांच हुई। इसके बाद ट्रेन बक्सर से भागलपुर के लिए खुली। दोनों टीटीई ने फतुहा स्टेशन आने पर जच्चा-बच्चा को सुरक्षित प्लेटफार्म पर उतारा। बच्ची के ट्रेन में जन्म लेने और ट्रेन से मिलता-जुलता रखने को लेकर सफर में यात्रियों के बीच यह चर्चा का विषय बना रहा। बच्ची के माता-पिता सहित दूसरे यात्रियों ने भी दोनों टीटीई के प्रति आभार जताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.