शुक्रवार, दिसम्बर 3

ब्रेकिंग : वित्त मंत्रालय से नए नोट की अधिसूचना जा’री, ऐसा होगा रंग और साइज, लौटेंगे पुराने दिन

वित्त मंत्रालय ने एक रुपये के नए नोट की छपाई से जुड़ी गजट अधिसूचना जा’री कर दी है। सरकार की ओर से जा’री गजट अधिसूचना में एक रुपये के नए नोट के रंग, मानक वजन और डिजाइन के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है। अंग्रेजी अखबार ‘फाइनेंशियल एक्सप्रेस’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक नया नोट 9.7 x 6.3 सेमी के आयताकार साइज का होगा। इस नए नोट पर ‘गवर्नमेंट ऑफ इंडिया’ से ऊपर ‘भारत सरकार’ अंकित होगा।

इस नोट पर वित्त सचिव अतनु चक्रवर्ती का दो भाषाओं में हस्ताक्षर होगा। नए नोट पर कई तरह के वाटरमार्क होंगे। इसी कड़ी में अशोक स्तंभ तो होगा लेकिन उसके साथ ‘सत्यमेव जयते’ अंकित नहीं होगा। नोट के केंद्र में ‘1’ छिपा हुआ रहेगा। इसी तरह दाहिने साइड में वर्टिकल स्टाइल में ”भारत” लिखा होगा। यह भी छिपा हुआ होगा।
नोट पर एक रुपये के नये सिक्के का रेप्लिका भी होगा। नए नोट का रंग मुख्य रूप से पिंक और ग्रीन में होगा। भारत सरकार जारी करती है एक रुपये का नोट

एक रुपये के नोट की कहानी भी बहुत अलग है। यह आज के समय में नोट के रूप में सबसे छोटी मुद्रा है। इसे आरबीआई नहीं बल्कि भारत सरकार जारी करती है। यही वजह है कि एक रुपये के नोट पर रिजर्व बैंक के गवर्नर का हस्ताक्षर नहीं होता है। एक रुपये के नोट पर देश के वित्त सचिव का हस्ताक्षर होता है।

एक रुपये के पहले नोट का मुद्रण 30 नवंबर, 1917 को हुआ था। उस नोट पर किंग जॉर्ज पंचम की फोटो होती थी। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की वेबसाइट के मुताबिक 1926 में पहली बार एक रुपये के नोट की छपाई बंद हो गई थी। इसे 1940 में फिर से शुरू किया गया। इसके बाद 1994 में एक रुपये के नोट की छपाई फिर से बंद कर दी गई। इसकी शुरुआत एक बार फिर 2015 में हुई।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *