#

बिहार के लोगों के लिए एक अच्छी खबर सामने आई है। बिहार के छोटे और बड़े शहरों के बीच  नई बस सेवा शुरू किया जा रहा। साथ ही बिहार और झारखंड से संपर्क बढ़ाने के प्रयास किए गए। अब पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश और झारखंड में सड़क मार्ग से जाना आसान होगा। बिहार से झारखंड और यूपी  के लिए अब 27 नए रूटों पर बसें चलाई जाएगी ।

 

राज्य के बड़े और छोटे कई शहरों के बीच नई बसें चलेंगी। इसके अलावा नई बसें बिहार से झारखंड और उत्तर प्रदेश के बीच कई रूटों पर पीपीपी मोड के तहत चलेंगी। बिहार राज्य सड़क परिवहन ने इस उद्देश्य के लिए वाहन मालिकों से अनुरोध आमंत्रित किए हैं। निविदा जमा करने की अंतिम तिथि 23 अगस्त है। राज्य में अंतर्क्षेत्रीय मार्ग पर बसों के लिए निविदा शुल्क पांच हजार रुपये प्रति बस दस हजार रुपये डिमांड ड्राफ्ट के माध्यम से भुगतान किया जाएगा। बिहार और झारखंड, बिहार और उत्तर प्रदेश रूट के लिए प्रति बस 20,000 रुपये देने होंगे।

 

राज्य के भीतर 55 अंतर्क्षेत्रीय मार्ग हैं। इनमें से अधिकतम आठ बसें दरबंगा-समस्तीपुर के लिए चलेंगी। इसके अलावा पटना से गोपालगंज के बीच छह और समस्तीपुर से गुरचन, दरबंगा से भागलपुर, दरबंगा से मधवापुर, लहेरियासराय से सीतामढ़, गया से कुर्था, मुंगेर से गया, पटना से मुंगेर आदि के लिए चार-चार बसें चलाने का प्रस्ताव है। इसके अलावा अधिकांश रूटों पर दो-दो बसें चलाने की योजना है।

 

# झारखंड के लिए 10 और यूपी के लिए 17 रूट

बिहार से झारखंड के बीच दस रूटों पर बसें चलाने का प्रस्ताव है। इनमें गया-टाटा, गया-बोकारो, गया-देवघर, नवादा-रांची, पटना-डाल्टेनगंज, पटना-टाटा, पटना-रांची, पटना-देवघर, पटना-दुमका और पटना-हजारीबाग रूट शामिल हैं। यूपी के लिए पटना-वाराणसी, गया-सारनापटना-बलिया, देवरिया-पटना, वाराणसी-डेहरी, अलीनगर-डेहरी, रामनगर-भभुआ, बलिया-बक्सर, भभुआ-वाराणसी, बक्सर-उजियारघाट, छपरा-बलिया, आजमगढ़-मुजफ्फरपुर, वाराणसी-गया, लखनऊ-गया और छपरा-गोरखपुर रूट शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *