भारत में सभी मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए पिछले साल 18,978 करोड रुपए की राशि का आवंटन किया गया था, जोकि इस वर्ष बढ़ाकर 19130 करोड़ रुपए कर दिया गया है। इस आवंटन से बिहार के पटना जिले में मेट्रो के कार्य में पहले से भी अधिक तेजी आने की संभावना बढ़ गई है। आपको बता दें की पटना मेट्रो पर होने वाले खर्च में 20% भागीदारी केंद्र सरकार की है तथा 20% भागीदारी राज्य सरकार की है।

 

तथा शेष 60% अन्य एजेंसी से कर्ज के आधार पर लिया जाना है, हालांकि जापानी एजेंसी बिहार के मेट्रो प्रोजेक्ट अपने दिलचस्पी दिखाई है इसके अलावा भी कई एजेंसी बिहार मेट्रो के प्रोजेक्ट पर दिलचस्पी दिखा रहे हैं।

 

काम की बात की जाए तो पटना में मेट्रो का कार्य बहुत ही तेजी से किया जा रहा है, मिली ताजा जानकारी के अनुसार पटना में पांच अंडर ग्राउंड मेट्रो स्टेशन बनाए जाने हैं जिसकी माफी भी शुरू की जा चुकी है। यह पांच अंडरग्राउंड स्टेशन साइंस कॉलेज मोईनूल हक स्टेडियम मलाही पकड़ी कॉमर्स कॉलेज और मीठापुर में बनाया जाना है।

 

अब इन मेट्रो स्टेशन के दायरे में आने वाले जमीनों के मालिक को सर्किल रेट से 2 गुना अधिक मुआवजा दिया जाएगा भवन निर्माण विभाग इन जमीनों पर बने मकानों का आकलन करेगी तथा उसके अनुसार मुआवजा का वितरण भी किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *