शुक्रवार, दिसम्बर 3

बिहार में ही अलग अलग जिले के छात्र पहुंचेंगे अपने घर, पटना प्रशासन की खुली लिया फैसला

को’रोना म’हामारी (Corona Epidemic) को लेकर जारी देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown3) में बिहार से बाहर रह रहे मजदूरों और छात्रों की वापसी तो शुरू हो गई है लेकिन पटना (Patna) समेत बिहार के ही अन्य शहरों में दूसरे जिलों के लोग अभी भी फंसे हैं. लॉकडाउन में कोटा (Kota) में फंसे छात्रों पर हुई राजनीति के बाद छात्रों की वापसी होने लगी. इसके बाद पटना में भी प्रशासन की नींद आखिरकार खुल गई है. पटना में फंसे बिहार के कई जिलों के छात्रों को अब जिला प्रशासन ने घर भेजने का फैसला लिया है।

पटना में फंसे छात्र जा सकेंगे घर

बिहार के कई जिलों के छात्र पटना में हॉस्टल, लॉज में रहकर पढ़ाई करते हैं. लॉकडाउन के कारण स्कूल, कॉलेज, कोचिंग संस्थान बंद होने के बाद सभी छात्र पटना में ही रह गए. लगातार लॉकडाउन बढ़ने के बाद छात्रों की परेशानी लगातार बढ़ती जा रही थी. पटना डीएम कुमार रवि ने फैसला लेते हुए बताया कि शहर में फंसे सभी छात्रों को उनके घर भेजा जाएगा. प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर रहे हजारों छात्र पटना में रहते हैं जो लॉकडाउन में रह गए हैं.

 

जिला शिक्षा पदाधिकारी को सर्वे की जिम्मेदारी

पटना में फंसे छात्रों को घर तक भेजने के आदेश के बाद जिला शिक्षा पदाधिकारी को छात्रों का सर्वे कराने की जिम्मेदारी दी गई है. पटना शिक्षा पदाधिकारी ज्योति कुमार ने बताया कि जिलाधिकारी का आदेश मिला है और जल्द ही सर्वे कर उनको रिपोर्ट भेजी जाएगी. उसके बाद छात्रों को उनके घर भेजा जा सकेगा.

लॉकडाउन बढ़ने से छात्रों को खाने-पीने की हो गई दिक्कत

लॉकडाउन बढ़ने के बाद लॉज में रह रहे छात्रो की परेशानियां बढ़ गई थी. लॉज में रह रहे छात्र मनीष कुमार का कहना है कि मकान मालिक भी पैसे मांग रहे हैं. खाने-पीने की भी दिक्कत हो गई थी ऐसे में जिला प्रशासन का यह कदम स्वागत योग्य है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *